Plane Crash: देवरिया का लाल लड़ रहा जिंदगी की जंग, प्रार्थनाओं का दौर जारी

Shubham Bajpai, Last updated: Thu, 9th Dec 2021, 11:27 AM IST
  • तमिलनाडु के कुन्नूर जिले के पास हुए प्लेन क्रेश में सीडीए बिपिन रावत के साथ सवार कई अन्य अधिकारियों की मौत हो गई. वहीं, देवरिया के लाल ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह अस्पताल में जिंदगी की लड़ाई लड़ रहे हैं. इस हादसे में वो गंभीर रुप से घायल हो गए हैं. उनके जल्द स्वस्थ होने के लिए प्रार्थनाओं का दौर जारी है.
देवरिया का लाल ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह लड़ रहा जिंदगी की जंग, प्रार्थनाओं का दौर जारी

गोरखपुर. तमिलनाडु के कुन्नुर में हुए प्लेन क्रैश में देश ने सेना के सर्वोच्च अधिकारी सीडीएस बिपिन रावत उनकी पत्नी समेत 13 सैन्य अधिकारियों को खो दिया. इस दौरान प्लेन में 14 लोग सवार थे, जिसमें यूपी के देवरिया के रहने वाले एयरफोर्स के ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह गंभीर रुप से घायल हैं. जिनका अस्पताल में इलाज जारी है, वो अभी आईसीयू में हैं और उनकी हालत पर डॉक्टर लगातार नजर बनाए हुए हैं. उनके जल्द स्वस्थ होने को लेकर उनके गांव और देश में लोग प्रार्थना कर रहे हैं.

देवरिया के कंहौली गांव के निवासी है वरुण

वरुण देवरिया जिले के रुद्रपुर इलाके के कंहौली गांव के निवासी हैं. उनके गांव में कल जैसे ही प्लेन क्रैश की खबर पहुंची. पूरे इलाके में शोक की लहर सी दौड़ गई. तब से उनके गांव में प्रार्थना का दौर जारी है. लोगों का कहना है कि घटना दुर्भाग्यपूण है, भगवान वरुण को जल्द स्वस्थ करे. आर्मी में कोई भी घटना होती है तो उसकी जांच जरूर होती है अब जांच के बाद ही कारण सामने आएगा.

UPSSSC लेखपाल भर्ती का पाठ्यक्रम, एग्जाम पैटर्न जारी, 4 विषयों के प्रश्न आएंगे

पिता भी सेना से रिटायर्ड, भाई नेवी में कार्यरत

वरुण सिंह की पृष्ठभूमि ही सेना से जुड़ी रही है. उनके पिता कर्नल केपी सिंह सेना से रिटायर्ड हैं. उनके भाई तनुज सिंह नेवी में कार्यरत हैं. पिता ने बताया कि अभी उनकी हालत नाजुक है और वे आईसीयू में एडमिट है. बहू बेटे के साथ अस्पताल में ही मौजूद है. लगातार सभी लोग उसकी स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं. वर्तमान में वरुण की तैनाती वेलिंग्टन में है और वो अपनी पत्नी व दो बच्चों के साथ रह रहे हैं.

महिला घोषणा पत्र: प्रियंका गांधी को पता है, न नौ मन तेल होगा ना राधा नाचेगी- BJP

शौर्य चक्र से हो चुके हैं सम्मानित

वरुण की चचेरी बहन व गोरखपुर विश्वविद्यालय के गृह विभाग की विभागाध्यक्ष प्रो दिव्यरानी सिंह ने बताया कि वरुण शौर्य चक्र से सम्मानित हो चुके हैं. अब इस घटना की जानकारी से सभी लोग घबराए हुए हैं. हम सब प्रार्थना कर रहे हैं कि वो जल्द से जल्द ठीक होकर घर आएं. वरुण 2007 से 2009 के बीच गोरखपुर में भी तैनात रह चुके हैं.

 

अन्य खबरें