गोरखपुर शहर सीट से लड़ेंगे योगी आदित्यनाथ, राधामोहन दास अग्रवाल का टिकट कटा

Jayesh Jetawat, Last updated: Sat, 15th Jan 2022, 2:51 PM IST
  • बीजेपी ने यूपी चुनाव 2022 में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को गोरखपुर शहर विधानसभा सीट से प्रत्याशी बनाया है. गोरखपुर शहर से मौजूदा बीजेपी विधायक राधामोहन दास अग्रवाल का टिकट काट दिया गया है.
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ राधामोहन दास अग्रवाल (फाइल फोटो)

गोरखपुर: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के मद्देनजर बीजेपी ने उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी कर दी है. इसमें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को गोरखपुर शहर से टिकट दिया गया है. बीजेपी ने गोरखपुर शहर से मौजूदा विधायक राधामोहन दास अग्रवाल का टिकट काट दिया है. अब मुख्यमंत्री खुद यहां से चुनाव लड़ेंगे. गोरखपुर शहर विधानसभा सीट पर यूपी ही नहीं बल्कि पूरे देश की नजर रहेगी.

बीजेपी की केंद्रीय चुनाव समिति ने शनिवार को उत्तर प्रदेश के उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की. इसमें 105 सीटों पर प्रत्याशियों के नामों का ऐलान किया गया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पहले मथुरा और फिर अयोध्या से चुनाव लड़ने के कयास लगाए जा रहे थे. मगर उन्होंने अपने गृहक्षेत्र गोरखपुर शहर से प्रत्याशी बनाया गया है.

यूपी चुनाव: बीजेपी की पहली सूची में 105 सीट पर कैंडिडेट के नाम का ऐलान

यहां से मौजूदा विधायक राधामोहन दास अग्रवाल का बीजेपी ने टिकट काट दिया है. कहा जाता है कि इस सीट का गणित लखनऊ नहीं बल्कि गोरखपुर के दरबार से ही तय होता है. बीते 8 विधानसभा चुनाव में इस सीट पर 7 बार बीजेपी को जीत मिली. वहीं एक बार खुद योगी आदित्यनाथ ने ही बीजेपी को यहां से हराया था.

राधा मोहन अग्रवाल कभी योगी आदित्यनाथ के करीबी माने जाते थे. 2002 के विधानसभा चुनाव में राधामोहन दास अग्रवाल अखिल भारतीय हिंदू महासभा के टिकट पर मैदान में उतरे और खुद योगी ने उनके समर्थन में प्रचार किया. नतीजा ये रहा कि राधामोहन दास जीत गए और बीजेपी प्रत्याशी शिव प्रताप शुक्ला को करारी हार का सामना करना पड़ा. बाद में राधामोहन दास अग्रवाल बीजेपी में शामिल हो गए. तब से यहां से वे बीजेपी के टिकट पर चुनाव जीत रहे हैं.

BJP List: केशव प्रसाद मौर्य कौशांबी की सिराथू सीट से चुनाव लड़ेंगे

योगी से रिश्ते हुए खराब!

2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी की यूपी में प्रचंड बहुमत से जीत के बाद योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री बने तो राधामोहन दास अग्रवाल को मंत्री पद मिलने की उम्मीद थी. कैबिनेट में जगह नहीं मिलने से योगी आदित्यनाथ से उनके रिश्ते खराब होने लगे. 

आलम ये रहा कि वे कई बार अपनी ही सरकार के अधिकारियों के विरोध में उतर आए. उन्होंने अधिकारियों पर अनदेखी के आरोप लगाए. हाल ही में एक महिला उनसे सड़क की मरम्मत की फरियाद लेकर पहुंची, तो विधायक ने उसे बेइज्जत करके भगा दिया. महिला ने राधामोहन के खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट भी दी.

अन्य खबरें