Chhath Puja 2021: छठ पूजा के दौरान न करें ये गलतियां, वरना छठी मईया हो जाएगी नाराज

Pallawi Kumari, Last updated: Mon, 8th Nov 2021, 2:01 PM IST
  • छठ पूजा हिंदूओं का सबसे महत्वपूर्ण त्योहार माना जाता है. इसमें नियम और व्रत काफी कठिन होते हैं. इसलिए छठ को लोक आस्था का महापर्व कहा जाता है. छठ पूजा में सूर्य देव और छठी मईया की उपासना की जाती है. छठ पूजा से जुड़े कुछ ऐसे नियम हैं जिसका पालन व्रती से लेकर घरवालों को भी करना जरूरी होता है.
छठ पूजा के नियम.

सोमवार को नहाय खाय के साछ महापर्व छठ की शुरुआत हो चुकी है. आज नहाय खाय के साथ छठ पूजा के पहले दिन का त्योहार मनाया जाएगा. चार दिनों तक चलना वाला लोक आस्था का पर्व छठ के दौरान कई नियामों का पालन का करना पड़ता है. इसमें छठी मईया और सूर्य देव की अऱाधना की जाती है. जिस घर में छठ पूजा की जाती है वहां व्रती से लेकर घर के सभी लोगों को विशेष नियमों का पालन करना जरूरी होता है.

 इसलिए यह जानना बेहद जरूरी है कि छठ के दौरान ऐसे कौन से काम हैं जिन्हें नहीं करना चाहिए. इस बात का खास ख्याल रखें कि छठ के दौरान आपसे कोई गलती न हो और छठी मईया आपकी भक्ति अराधना से खुश होकर आपकी सारी मनोकामनाएं पूरी करे. 

Chhath Puja 2021: सोमवार को छठ पूजा का पहला दिन नहाय खाय, आज ही जुटा लें ये सामग्री

आइये जानते हैं छठ के दौरान किन कामों को भूलकर भी नहीं करना चाहिए.

बिना हाथ धोए पूजा के किसी भा सामान को हाथ न लगाए.

छठ पर्व के दौरान पूरे चार दिनों तक पूरे परिवार को प्याज और लहसुन आदि का भोजन नहीं करना चाहिए.

छठ पूजा में साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें. भूलकर भी घर में मांस या मदिरा न लाएं. अगर घर पर पहले से ये चीजें हैं तो छठ के दौरान इसे फेंक दें.

छठ करने वाली व्रती महिलाओं को नहाय खाय से लेकर अर्घ्य कर पूरे चार दिनों के लिए जमीन पर चटाई या पराली बिछाकर सोना चाहिए.

सूर्यदेव को अर्घ्य देने के लिए कभी भी चांदी, स्टील या प्लास्टिक के बर्तन का इस्तेमाल न करें.

छठ पूजा का प्रसाद मिट्टी के चूल्हें पर लकड़ी से बनाना चाहिए. पूजा के प्रसाद के लिए जहां तक संभव हो पीतल के बर्तन का इस्तेमाल करना चाहिए.

Chhath Puja 2021: छठ व्रत में क्यों जरूरी है बांस का सूप और दौरा, पूजा में क्या है इसका महत्व

अन्य खबरें