Chhath Puja 2021: जानी-अनजानी भूल-चूक के लिए छठी मईया से मांगे माफी, इस क्षमायाचना मंत्र का करें जाप

Pallawi Kumari, Last updated: Tue, 9th Nov 2021, 11:35 AM IST
  • हर पूजा पाठ में कई नियम होते हैं. वहीं छठ पूजा तो नियम और पवित्रता के लिए ही जाना जाता है. इसलिए इसे महापर्व कहा जाता है. कई बार पूजा के दौरान हमसे जाने अनजाने में कोई गलती हो जाती है. अगर आपसे भी पूजा के दौरान को अनजाने में कोई गलती हो जाए तो क्षमायाचना मंत्र का जाप जरूर करें.
हरेक पूजा पाठ के बाद जरूर पढ़ें क्षमायाचना मंत्र.

छठ पूजा का त्योहार 8 नवंबर से शुरू हो गया है, जो पूरे चार दिनों तक चलेगा. 11 नवंबर को सूर्य को अर्घ्य देने के बाद पूजा का समापन होगा. छठ पूजा के दौरान पूरे चार दिनों तक कई नियमों का पालन करना पड़ता है. ऐसे में कई बार ऐसा होता है कि जाने अनजाने में हमसे ऐसी गलतियां हो जाती है, जिसके बारे में हमें पता ही नहीं चलता. सिर्फ छठ पूजा ही नहीं बल्कि रोजाना के पूजा पाठ में भी हमसे गलती हो जाती है, जिसका पता हमें भी नहीं लग पाता. 

जब गलती का पता चलता है तो ऐसे में मन में एक डर सा बना रहता है कि क्या इससे कोई नुकसान तो नहीं होगा. लेकिन इसके लिए आपको बहुत ज्यादा परेशान होने की जरुरत नहीं है. क्योंकि शास्त्रों में पूजा में हुए भूल चूक के लिए क्षमायाचना मंत्र बताया गया है. कहा जाता है कि कोई भी पूजा पाठ तभी संभव होता है जब आप पूजा के बाद क्षमायाचना मंत्र का जाप करते हैं.

Chhath Puja 2021: खरना पूजा से लेकर अर्घ्य तक छठ पर्व में बन रहे कई विशेष योग, इन राशियों के लिए फलदायी

क्षमा मांगने के लिए क्षमायाचना मंत्र-

आवाहनं न जानामि न जानामि तवार्चनम्।

पूजां श्चैव न जानामि क्षम्यतां परमेश्वर॥

मंत्रहीनं क्रियाहीनं भक्तिहीनं सुरेश्वरं।

यत्पूजितं मया देव परिपूर्ण तदस्मतु।

इस मंत्र का मतलब है कि, हे भगवान। न मैं आपको बुलाना जानता/जानती हूं और न विदा करना. पूजा करना भी नहीं जानता/जानती. कृपा करके मुझे क्षमा करें. मुझे न मंत्र याद है और न ही क्रिया. मैं भक्ति करना भी नहीं जानता/जानती. यथा संभव पूजा कर रहा/रही हूं, कृपया मेरी भूलों को क्षमा कर इस पूजा को स्वीकार करें.

Lunar Eclipse: इस दिन लगेगा साल का अंतिम चंद्र ग्रहण, इन 3 राशि वालों के लिए शुभ तो 3 को नुकसान

 

अन्य खबरें