22 साल के इंजीनियर ने फांसी लगाकर दी जान, PSC की परीक्षा से पहले उठाया कदम

Smart News Team, Last updated: Mon, 22nd Mar 2021, 2:03 PM IST
  • इंदौर में 22 वर्षीय इंजीनियर ने पीएससी की परीक्षा से पहले ही फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. युवक के परिवार ने उसे फांसी के फंदे से उतारकर तुरंत ही अस्पताल में भर्ती कराया, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया.
22 साल के इंजीनियर ने फांसी लगाकर दी जान, PSC की परीक्षा से पहले उठाया कदम (प्रतीकात्मक तस्वीर)

इंदौर में 22 वर्षीय इंजीनियर द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या करने का मामला सामने आया है. मृतक ने हाल ही में बीई कंप्लीट किया था और पीएससी मेंस की तैयारी में लगा हुआ था. लेकिन बीते रविवार को पीएससी की परीक्षा देने से पहले ही उसने यह कदम उठा लिया. वहीं, मृतक के भाई और दोस्तों का कहना है कि वह अकसर उनसे कहता था कि वह एग्जाम तो पास कर लेगा, लेकिन उसे पोस्ट अच्छी मिलेगी या नहीं, इस बात पर चिंता रहती थी.

मामले की प्राथमिक जांच में सामने आया है कि युवक ने रेसलर रितिका फोगाट की आत्महत्या के वीडियो देखने के बाद बीते शनिवार की रात करीब 1 बजे फांसी लगा ली. इस बात का अंदाजा उसके मोबाइल पर सोशल मीडिया हिस्ट्री चेक करने के बाद लगाया जा रहा है. वहीं, भाई और दोस्तों के मुताबिक युवक काफी तनाव में रहता था. युवक के पास से कोई भी सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ है. बताया जा रहा है कि वह इंदौर की पवनपुरी कॉलोनी में बड़े भाई संजय और छोटी बहन नेहा के साथ रहता था.

बेवजह घूम रहे लोगों पर पुलिस की सख्ती, की डंडे से पिटाई

मृतक के बारे में बात करते हुए संजय ने बताया कि सौरभ इंटेलिजेंट था. उसने पहली बार में ही पीएससी प्री पास कर ली थी और मेंस की तैयारी में लगा हुआ था. लेकिन उसे इस बात की चिंता रहती थी कि वह अच्छी पोस्ट प्राप्त कर पाएगा या नहीं. इस बात को लेकर उसे लोगों ने समझाया भी था. परीक्षा से पहले वह पढ़ाई कर रहा था, जिसके बाद उसे सो जाने के लिए कहा गया. वहीं, जब सुबह युवक के भाई-बहन उठे तो उन्हें बाहर से गेट बंद मिला. इसपर उन्होंने नकूचे के नट खोले और बाहर आकर देखा तो पाया कि सौरभ फांसी के फंदे पर लटका हुआ था. युवक को फंदे से उतारकर तुरंत ही एमवायएच अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया.

CM शिवराज का ऐलान, 23 मार्च को शुरू होगा संकल्प अभियान, सभी को करना होगा ये काम

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें