अवैध निर्माण पर कार्रवाई: मनोहर वर्मा सहित प्यारे मियां का 'घर- बार' नेस्तनाबूत

Smart News Team, Last updated: 20/11/2020 02:44 PM IST
  • इंदौर प्रशासन लगातार अवैध निर्माणों को तोड़ने का कार्य कर रहा है. बता दें, नगर निगम गुंडों द्वारा बनाए गए अवैध निर्माणों पर सख्त कार्रवाई कर रहा है.
इंदौर: प्यारे मियां के अड्डे पर चला प्रशासन का डंडा, मनोहर वर्मा के अवैध निर्माण भी ध्वस्त

इंदौर: इंदौर प्रशासन लगातार अवैध निर्माणों को तोड़ने का कार्य कर रहा है. बता दें, नगर निगम गुंडों द्वारा बनाए गए अवैध निर्माणों पर सख्त कार्रवाई कर रहा है. अब नगर निगम ने सूचीबद्ध गुंडों के अवैध निर्माण तोड़ने की कड़ी में शुक्रवार को भी तीन कार्रवाई की. गौरतलब है कि पुलिस प्रशासन ने नगर निगम को 15 बड़े गुंडों और उनके द्वारा किए गए अवैध निर्माण की सूची सौंपी है, जिन पर अब चरणबद्ध तरीके से कार्रवाई हो रही है. अब इस कार्रवाई के दौरान प्यारे मियां के लालाराम नगर स्थित दो मंजिला अय्याशी के अड्डे को ध्वस्त कर दिया. इसके अलावा रावजी बाजार थाना क्षेत्र के गुंडे मनोहर वर्मा, विक्की वर्मा के अवैध निर्माण को भी मिट्टी में मिला दिया.

बता दें, इन सभी अवैध निर्माणों को धवस्त करने से पहले नगर निगम ने संबंधित लोगों को नोटिस भेजा था. जिसके बाद शुक्रवार को सुबह छह नगर निगम और पुलिस प्रशासन का अमला भारी भरकम दल के साथ हाथीपाला चौराहा पहुंचा. फिर तमाम औपचारिकता के बाद अपनी कार्रवाई प्रारंभ की. प्रशासन ने सबसे पहले मनोहर वर्मा के अवैध निर्माण को तोड़ा. फिर विक्की वर्मा के मालीपुरा स्थित अवैध निर्माण को ध्वस्त किया. भवन अधिकारी पीआर आरोलिया के अनुसार इस दौरान सूचीबध्द गुंडे अरुण वर्मा और शीला वर्मा के अवैध निर्माण को तोड़ा गया. इन्होंने 1750 वर्गफीट पर दो मंजिला मकान अवैधानिक रूप से बना रखा था.

विद्युत कंपनी को मिला नवंबर में 900 करोड़ जुटाने का लक्ष्य, अब शुरू होगी वसूली

इसके बाद प्यारे मियां के 29 लालाराम नगर स्थित मकान पर पुलिस प्रशासन और नगर निगम की टीम पहुंची. प्यारे मियां ने अपने मकान में ना सिर्फ अय्याशी के लिए बार और कमरें बना रखे थे बल्कि भागने के लिए गोपनीय रास्ता भी बना रखा था. बार में विदेशी शराब की बोतलों के अलावा तलवार और आपत्तिजनक सामग्री भी मिलीं. बता दें, इससे पहले प्रशासन ने गुंडे साजिद चंदनवाला के अवैध निर्माण को ध्वस्त किया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें