इंदौर : अभिभावकों की अनुमति बिना विद्यार्थियों को स्कूल बुलाने पर होगी कार्रवाई

Smart News Team, Last updated: Mon, 11th Jan 2021, 6:07 PM IST
  • मध्य प्रदेश स्कूल शिक्षा विभाग ने कक्षा 9वीं एवं 11वीं के विद्यार्थियों को अभिभावकों की अनुमति से ही स्कूल बुलाने की इजाजत दी है. इंदौर के कलेक्टर को शिकायत प्राप्त हुई थी कि एक अशासकीय स्कूल द्वारा विद्यार्थियों पर दबाव डालकर स्कूल बुलाया जा रहा है.
सांकेतिक फोटो

इंदौर. इंदौर के कलेक्टर मनीष सिंह ने कहा है कि अभिभावकों की अनुमति बिना विद्यार्थियों को स्कूल बुलाने पर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी. दरअसल, कलेक्टर को शिकायत प्राप्त हुई थी कि अशासकीय विद्यालय सैंटपॉल हायर सेकेण्डरी स्कूल इन्दौर द्वारा कक्षा 9वीं एवं 11वीं के विद्यार्थियों को दबाव देकर स्कूल बुलाया जा रहा है. 

शिकायत का संज्ञान लेते हुए कलेक्टर ने एसडीएम एवं जिला शिक्षा अधिकारी रवि कुमार सिंह को तत्काल मौके पर जाकर जांच करने के निर्देश दिए थे. संयुक्त कलेक्टर एवं जिला शिक्षा अधिकारी सिंह ने बताया कि कलेक्टर के निर्देश पर रविवार 10 जनवरी को सैंटपॉल हायर सेकेण्डरी स्कूल की जांच की गई. रविवार का अवकाश होने के कारण विद्यालय बंद पाया गया. विद्यालय परिसर में निवासरत उप प्राचार्य सिस्टर पेट्रिसिया से जानकारी लेने पर बताया गया कि कक्षा 9वीं एवं 11वीं के विद्यार्थियों को अभिभावकों से अनुशंसा मिलने पर ही स्कूल में बुलाया जा रहा है. उल्लेखनीय है कि कक्षा 9वीं एवं 11वीं के विद्यार्थियों को माता-पिता/अभिभावकों की अनुमति से स्कूल में आने की अनुमति मध्य प्रदेश शासन स्कूल शिक्षा विभाग के आदेश अनुसार दी गयी है. 

MP के बाहर काम पर जाने वाली महिलाओं का होगा रजिस्ट्रेशन: CM शिवराज

जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा पुन: सभी स्कूल संचालकों को निर्देशित किया गया है कि कक्षा 9वीं एवं 11वीं के विद्यार्थियों को माता-पिता/अभिभावकों की अनुमति प्राप्त होने पर ही स्कूल बुलाया जाए एवं स्कूल में कोविड प्रोटोकॉल की एसओपी का पालन सुनिश्चित किया जाए. जिन विद्यालयों द्वारा उपरोक्त निर्देशों का उल्लंघन किया जाएगा, उनके खिलाफ दण्डात्मक कारर्वाई की जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें