गैंगरेप मामला: आरोप और सबूतों में तालमेल नहीं, इंदौर पुलिस ने कहा- घटना संदिग्ध

Smart News Team, Last updated: Fri, 22nd Jan 2021, 2:35 PM IST
  • एक 18 वर्षीय छात्रा ने आरोप लगाया था कि उसके साथ सुनियोजित तरीके से पहले अपहरण कर गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया गया और बाद में उसे बोरे में बंदकर जलाकर मारने की कोशिश की गई. पुलिस ने जब इस मामले की पड़ताल की तो मामला संदिग्ध निकला. आईजी ने कहा कि घटना में बहुत सारे तथ्य विरोधाभासी पाए गए हैं.
सांकेतिक फोटो

इंदौर. इंदौर में मंगलवार रात पुलिस के सामने गैंगरेप की एक ऐसी शिकायत आई थी, जिससे पुलिस महकमा भी सकते में आ गया था. इस मामले को लेकर प्रदेश के पूर्व सीएम कमलनाथ ने भी सोशल मीडिया के जरिये कई सवाल उठाए थे. लेकिन, जांच पड़ता के बाद पुलिस को यह घटना संदिग्ध प्रतीत हो रही है. पुलिस इस कथित गैंग रेप के सवालों के जबाव ढूंढने के बाद इस नतीजे के करीब है कि घटना की असलियत क्या वाकई गैंगरेप है या फिर कुछ और. 

दरअसल, मंगलवार देर रात इंदौर में एक सनसनीखेज वारदात सामने आई थी. एक 18 वर्षीय छात्रा का आरोप था कि उसके साथ सुनियोजित तरीके से पहले अपहरण कर गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया गया और बाद में उसे बोरे में बंद कर 5 आरोपियों ने जलाकर मारने की कोशिश की थी. इंदौर पुलिस ने इस मामले के तह तक जाकर असलियत को ढूंढ सबके सामने ला दिया. इंदौर आईजी हरिनारायणचारि मिश्र ने बताया कि महिला अपराधों को लेकर पुलिस बहुत संवेदनशील है. मंगलवार को एक बड़ा संवेदनशील मामला सामने आया था, जिसमें लड़की ने कई तरह की शिकायतें की और 4 से 5 लोगों के विरुद्ध आरोप लगाए. इसके आधार पर 307 और 376 जैसी गंभीर धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया था. पूरे मामले को पुलिस ने अत्यंत गंभीरता से लिया. घटना के संबंध में करीब 150 सीसीटीवी फुटेज निकाले गए. 

इंदौर: परिजन गए थे काम पर, 16 वर्षीय नाबालिग ने फांसी लगाकर सुसाइड कर ली

सभी तथ्यों का बारीकी से परीक्षण किया गया और अंत मे जो निष्कर्ष सामने आए, उसके हिसाब से यह कहा जा सकता है कि घटना सही नही पाई गई है. घटना में बहुत सारे तथ्य विरोधाभासी पाए गए हैं. घटना के समय जो भी साक्ष्य, सीसीटीवी फुटेज, मेडिकल परीक्षण आदि से पुलिस ने जो तथ्य एकत्रित किए हैं, उन सभी को जोड़कर घटना काफी हद तक संदिग्ध पाई गई है. जो भी तथ्य सामने ए हैं, उसके हिसाब से पुलिस आगे की कार्रवाई करेगी. घटना में जो तथ्य आए वो भ्रामक और निराधार पाए गए. पुलिस उसके पीछे की वजह जानने का प्रयास कर रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें