इंदौर में कलेक्टर और एसडीएम के खराब रवैये से स्वास्थ्य अफसरों में नाराज़गी

Smart News Team, Last updated: Thu, 6th May 2021, 11:28 AM IST
  • कलेक्टर मनीष सिंह के रवैये से नाराज़ जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ पूर्णिमा गड़रिया ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. वहीं मानपुर मेडिकल ऑफिसर डॉ. आर एस तोमर ने काम करने में असमर्थता जताते हुए एसडीएम अभिलाष मिश्रा को जिम्मेदार ठहराया है.
डॉ पूर्णिमा गड़रिया का इस्तीफा

इंदौर: कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच एक स्वास्थ्य अधिकारी के इस्तीफे ने हर तरफ हलचल मचा दी है. इंदौर के कलेक्टर मनीष सिंह के रवैये से नाराज़ जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ पूर्णिमा गड़रिया ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने अपना इस्तीफा स्वास्थ्य आयुक्त को भेजा है. अपने इस्तीफे के लिए डॉ पूर्णिमा गड़रिया ने कलेक्टर मनीष सिंह को जिम्मेदार बताया है.

कलेक्टर मनीष सिंह पर आरोप लगाते हुए डॉ गड़रिया ने कहा कि स्थिति बिगड़ने पर कलेक्टर स्वास्थ्य विभाग पर आरोप लगाते हैं. डॉ गड़रिया के अनुसार कुछ दिन पहले कलेक्टर ने कहा था कि नौकरी छोड़ दो या मैं तुम्हें सस्पेंड कर दूंगा. इसी के बाद डॉ पूर्णिमा गड़रिया ने अपना इस्तीफा स्वास्थ्य आयुक्त को भेज दिया.

इंदौर सर्राफा बाजार में सोना व चांदी फिसली, क्या है आज का मंडी भाव

कलेक्टर मनीष सिंह की कार्यशैली को लेकर तमाम अफसरों में नाराज़गी है. इससे पहले कलेक्टर मनीष सिंह ने तत्कालीन सीएमएचओ प्रवीण जड़िया को भी भरी बैठक में इतना फटकारा कि वो रो पड़े और अस्वस्थ्य होने का हवाला देकर छुट्टी पर चले गए थे. उसके बाद डॉ पूर्णिमा गड़रिया को सीएमएचओ का कार्यभार सौंपा गया था.

पेट्रोल डीजल आज 6 मई का रेट: भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, जबलपुर में बढ़ी तेल की कीमत

वहीं दूसरी ओर मानपुर मेडिकल ऑफिसर डॉ. आर एस तोमर ने काम करने में असमर्थता जताते हुए एसडीएम अभिलाष मिश्रा को जिम्मेदार ठहराया है. उन्होंने एसडीएम पर अभद्रता करने का आरोप लगाते हुए मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को चिट्ठी लिखी है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें