भय्यू महाराज सुसाइड केस में इंदौर कोर्ट ने 3 दोषियों को सुनाई 6-6 साल की सजा

Jayesh Jetawat, Last updated: Fri, 28th Jan 2022, 7:43 PM IST
  • एमपी के बहुचर्चित भय्यू महाराज सुसाइड केस में इंदौर की अदालत ने 3 दोषियों विनायक दुधाड़े, शरद देशमुख और पलक पौराणिक को 6-6 साल की कैद की सजा सुनाई है.
संत भय्यू महाराज (फाइल फोटो)

इंदौर: मध्य प्रदेश के बहुचर्चित संत भय्यू महाराज के सुसाइड के मामले में अदालत ने फैसला सुना दिया है. इंदौर की एक कोर्ट ने भय्यू महाराज के सेवादार विनायक, केयर टेकर पलक और ड्राइवर शरद को 6-6 साल की कैद की सजा सुनाई है. कोर्ट ने इन्हें भय्यू महाराज को सुसाइड के लिए उकसाने का दोषी माना है. भय्यू महाराज ने 12 जून 2018 को अपने घर में खुद की रिवॉल्वर से गोली मारकर खुदकुशी कर ली थी.

इंदौर के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश धर्मेंद्र सोनी ने इस हाई प्रोफाइल मामले में शुक्रवार को अहम फैसला सुनाया. उन्होंने पलक पौराणिक (28), विनायक दुधाड़े (45) और शरद देशमुख (37) को आईपीसी की धारा 306 और अन्य सेक्शन के तहत दोषी करार दिया. तीनों को 6-6 साल की कैद की सजा सुनाई गई है.

कौन थे भय्यू महाराज?

भय्यू महाराज देश के जाने-माने आध्यात्मिक गुरु थे. वे मूलरूप से एमपी के शाजापुर जिले के रहने वाले थे. संत बनने से पहले उन्होंने मॉडलिंग की. 2011 में दिल्ली में हुए अन्ना आंदोलन के दौरान उन्होंने सरकार और अन्ना हजारे के बीच मध्यस्थता की भूमिका निभाई थी. उन्होंने खुद अन्ना हजारे को जूस पिलाकर अनशन खत्म करवाया था. भय्यू महाराज का इंदौर में आश्रम है. वे महंगी गाड़ियों से चलते थे. कई राजनेताओं से उनके अच्छे संबंध थे.

श्वेता तिवारी के विवादित बयान पर MP सरकार सख्त, नरोत्तम मिश्रा ने पुलिस से मांगी रिपोर्ट

क्या है मामला?

12 जून 2018 को भय्यू महाराज ने अपने घर में ही आत्महत्या कर ली. उन्होंने अपनी लाइसेंसी रिवॉल्वर से खुद को गोली मारी. सुसाइड से पहले उन्होंने फोन कर अपनी बेटी को पुणे से इंदौर बुला लिया था. पुलिस को उनके कमरे से एक सुसाइड नोट भी मिला था.

पुलिस ने अपनी जांच में पाया कि भय्यू महाराज को आत्महत्या के लिए उकसाया गया था. इसके लिए विनायक, शरद और पलक को संदेह के घेरे में लिया गया. सुसाइड के करीब 7 महीने बाद पुलिस ने इन तीनों को गिरफ्तार किया. 

एमपी : कोरोना की रफ्तार हुई कम, CM चौहान ने जल्द स्कूल खोले जाने के दिए संकेत

पलक अश्लील वीडियो के जरिए भय्यू महाराज पर शादी करने के लिए दबाव बना रही थी. इसमें विनायक और शरद ने पलक का साथ दिया था. पुलिस को तीनों के मोबाइल से चैट भी मिली है, जिसमें भय्यू महाराज को प्रताड़ित करने की प्लानिंग की गई.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें