आनोखी शादी का अजब गजब नजारा, घोड़ी पर सवार हुई दुल्हन तो बैलगाड़ी पर हुई विदाई

Ruchi Sharma, Last updated: Wed, 9th Feb 2022, 10:29 AM IST
  • मध्य प्रदेश के खंडवा में शादी के दौरान एक अनोखा नजारा देखने को मिला है. यहां पर एक दुल्हन घोड़ी पर सवार होकर बारात लेकर शादी के मंडप तक पहुंची, तो वहीं दूसर तरफ बड़गांव माली में दुल्हन की विदाई बैलगाड़ी से हुई और दूल्हे ने बैल हांके.
घोड़ी पर सवार हुई दुल्हन तो बैलगाड़ी पर हुई विदाई

इंदौर. शादियों का सीजन चल रहा है और ऐसे में आसपास रोज शादी की शहनाई सुनाई दे रही है. जमाना बदल चुका है अब शादी में दूल्हा हो या दुल्हन दोनों अपनी अपनी खास प्लानिंग करते हैं. हर कपल अपनी शादी से जुड़े इस खास मौके को एंजॉय करना चाहता है. इसी क्रम में मध्य प्रदेश के खंडवा में शादी के दौरान एक अनोखा नजारा देखने को मिला है. अक्सर देखा जाता है कि दूल्हा घोड़ी पर सवार होकर अपनी दुल्हन को लेने पहुंचता है, लेकिन कोरगला में हुई एक शादी में कुछ अलग ही नजारा देखने को मिला है. यहां पर एक दुल्हन घोड़ी पर सवार होकर बारात लेकर शादी के मंडप तक पहुंची, तो वहीं दूसर तरफ बड़गांव माली में दुल्हन की विदाई बैलगाड़ी से हुई और दूल्हे ने बैल हांके. यह दोनों ही नजारा देखने लायक था. इसका वीडियो सोशल मीडिया पर भी खूब वायरल हो रहे है.

दरअसल मध्य प्रदेश के बबड़गांव माली में उज्जवल पाटीदार का विवाह गांव की ही कोमल से हुआ. शादी के बाद जब कोमल की विदाई होने लगी, तो उज्जवल ने कार लगाई, लेकिन दुल्हन का भाई विनीत अपनी बहन को सरप्राइज देना चाहता था. उसने बहन को बैलगाड़ी में बैठाकर विदा करने के लिए गाड़ी को सजाया था. जैसे ही सजे-धजे बैल और गुब्बारे लगी गाड़ी द्वार पर आई तो कोमल चौंक गई. उज्जवल व कोमल बैलगाड़ी में बैठकर विदा हुए. उज्जवल पेस्टीसाइड कंपनी में टेरेटरी मैनेजर है. वहीं, कोमल बीए कर चुकी है.

 

घोड़े पर आई दुल्हन

वहीं एक ओर दूसरी तरफ कोरगला में रहने वाली श्रुति पटेल की शादी कुमठा के डॉ. अंकित पटेल से हुई. परिजन ने बताया कि दो पीढ़ियों के बाद घर में बेटी श्रुति का जन्म हुआ था. माता-पिता ने बेटे की तरह उसे पाला. सभी की ख्वाहिश थी कि जब श्रुति का विवाह हो तो वह भी एक लड़के की तरह घोड़ी चढ़े. श्रुति घोड़ी पर चढ़ी और परिवार वाले बाराती बने. इस दौरान गांव में जिसने भी उसे देखा वो हैरान रह गया.

बदल रहा है जमाना

बता दें कि दुल्हन श्रुति कंप्यूटर साइंस से BSc कर चुकी है, जबकि उनके पिता महेश किसान है. शादी को लेकर दुल्हन मां ने कहा कि बेटा और बेटी में अब कोई अंतर नहीं रहा है. समाज मे जितना अधिकार बेटों को है उतना हीं अधिकार बेटियों को भी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें