खजराना गणेश मंदिर में कलेक्टर ने बुजुर्गों के साथ हुई आमनविय घटना की माफी मांगी

Smart News Team, Last updated: 01/02/2021 09:47 PM IST
  • खजराना गणेश मंदिर लेक्टर मनीष सिंह ने बुजुर्गों भिक्षुओं के साथ हुई अमानवीय घटना पर गणेश भगवान से खजराना मंदिर आकर माफी माँगा. बता दें दो दिन पूर्व सड़क के किनारे निवास करने वाले वृद्ध निराश्रित भिक्षुओं को नगर निगम के कचरा वाहन में ले जाकर शिप्रा के किनारे फेंकने की घटना हुई थी.
खजराना गणेश मंदिर में कलेक्टर ने बुजुर्गों के साथ हुई आमनविय घटना की माफी मांगी

इंदौर: मध्यप्रदेश के इंदौर में स्थित प्रसिद्ध खजराना गणेश मंदिर में तिल चतुर्थी पर भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया कार्यक्रम में कलेक्टर मनीष सिंह सहित जिला प्रशासन व कई विभागों के आलाअधिकारी मौजूद रहे. कलेक्टर ने बुजुर्गों भिक्षुओं के साथ हुई अमानवीय घटना पर गणेश भगवान से खजराना मंदिर आकर माफी मांग सद्बुद्धि व शहर के हित में उचित निर्णय लेने की क्षमता की मानोकामना की है.

बता दे हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी इंदौर के प्रसिद्ध श्री खजराना गणेश मंदिर में तिल चतुर्थी बड़े ही धूमधाम से मनाई जा रही है यह कार्यक्रम तीन दिवसीय तक आयोजित किया जाएगा. इसमें प्रतिदिन श्री गणेश के भव्य श्रृंगार के साथ उन्हें कई प्रकार के मिष्ठान वह लड्डुओं का भोग लगाया जाएगा पहले दिन श्री गणेश को तील गुड़ के लड्डू का भोग दूसरे दिन आजवाइन व तीसरे दिन चोवला के लड्डुओं का भोग लगाया जाएगा.

घरवालों को बंधक बनाकर नकाबपोश बदमाशों ने डाला डाका, CCTV में कैद हुई वारदात

कार्यक्रम में कलेक्टर द्वारा मंदिर में पूजा अर्चना के साथ ध्वजारोहण भी किया गया तो वहीं बता दे पत्रकारों से बातचीत में कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि पिछले दिनों निगम द्वारा जो बुजुर्गों के साथ अमानवीय घटना घटित हुई थी उसके लिए भगवान से माफी भी मांगी ताकि आगे से ऐसी कोई भी घटना शहर में घटित ना हो और श्री गणेश से सद्बुद्धि और शहर को सही दिशा प्रदान करने के लिए उचित निर्णय लेने की क्षमता के लिए मार्गदर्शन की मनोकामना मांगी है.

गौरतलब है कि 2 दिन पूर्व सड़क के किनारे निवास करने वाले वृद्ध निराश्रित भिक्षुओं को नगर निगम के कचरा वाहन में ले जाकर शिप्रा के किनारे फेंकने की घटना हुई थी. जिस वजह से घटना के लिए जिम्मेदार नगर निगम के दो कर्मचारियों को अपनी नौकरी से भी हाथ धोना पड़ा था एवं एक उच्च आला नगर निगम अधिकारी को मुख्यमंत्री के आदेश पर भोपाल हस्तांतरित कर दिया गया था.

इंदौर पुलिस ने पेश की मिसाल, बीच रास्ते फंसे लोगों आश्रय तक पहुँचाने में मदद की

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें