इंदौर में कॉलोनाइजर ने बेची खजराना दरगाह की करोड़ों की जमीन, अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: 07/03/2021 02:06 PM IST
  • इंदौर में धर्मस्थल बाने के नाम पर कॉलोनाइजर ने जमीन ली और धर्मस्थल बनाने की जगह वहां 50 से ज्यादा प्लॉट काट दिए. इस जमीन की कुल कीमत 20 करोड़ रुपए से ज्यादा की बताई जा रही है.
सांकेतिक तस्वीर

इंदौर. इंदौर में एक कॉलोनाइजर ने खजराना दरगाह की करोड़ों की जमीन बेच दी. इस मामले में पुलिस ने कॉलोनाइजर को गिरफ्तार कर लिया है, साथ ही आरोपी के खिलाफ धोखाधड़ी का केस भी दर्ज करवाया है. पुलिस के मुताबिक आरोपी इंदौर के अमन नगर का रहने वाला है और उसका नाम मकसूद अहमद है. रिपोर्ट के मुताबिक आरोपी ने सैयद नाहरशाह वली पब्लिक चैरिटेबल ट्रस्ट बनया था.

मामले को लेकर सामने आया है कि आरोपी ने वक्फ बोर्ड से करीब ढाई एकड़ जमीन मदरसे व मस्जिद तैयार करने के नाम पर ली थी. लेकिन आरोपी ने धर्मस्थल बनाने की जगह वहां कॉलोनी काट दी और 50 से ज्यादा लोगों को वहां प्लॉट भी बेच दिये हैं. बताया जा रहा है कि आरोपी ने वक्फ बोर्ड की 20 करोड़ रुपए से ज्यादा कीमत की जमीन पर कॉलोनी काटकर धोघाधरी की है. उन्होंने फर्जी दस्तावेज भी तैयार कराए थे.

इंदौर: डुप्लीकेट घड़ी को ब्रांडेड बताकर बेच रहे थे व्यापारी, 20 लाख का माल पकड़ा

आरोपी ने जमीन का एग्रीमेंट भी वक्फ बोर्ड के नाम से होना बताया था. वहीं, कुछ दिनों बात मामले की शिकायत लोकायुक्त सहित कलेक्टर के पास पहुंची थी. वहीं, जांच में यह सामने आया कि आरोपी ने तीन साल की लीज पर जमीन ली थी, जिसे बाद में वक्फ बोर्ड द्वारा भी निरस्त कर दिया गया था. आरोपी ने 30 साल की लीज बताकर फर्जीवाड़े को अंजाम दिया, साथ ही दरगाह की जमीन को भी बेच दिया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें