इंदौर बन रहा IT का हब! शहर के युवाओं को कंपनियों से 25 लाख तक के पैकेज का ऑफर

ABHINAV AZAD, Last updated: Tue, 31st Aug 2021, 10:40 AM IST
  • टीसीएस और इंफोसिस जैसी कंपनियों की दिलचस्पी इंदौर के युवाओं को लेकर काफी बढ़ी है. लिहाजा, आइटी सेक्टर में शहर की स्थिति बेहतर हो गई है. हाल-फिलहाल में इंफोसिस ने भी इंदौर के कई फ्रेशर को ई-मेल कर न्यूनतम 3.5 लाख रुपये का पैकेज ऑफर किया है.
कोरोना महामारी के बाद आइटी सेक्टर में जबरदस्त उछाल आया है. (प्रतिकात्मक फोटो)

इंदौर. कई मशहूर कंपनियों के साथ-साथ लोकल कंपनियों में बीच आईटी सेक्टर के युवाओं की डिमांड काफी बढ़ रही है. इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि अब 20-30 फीसदी युवाओं को अपने शहर इंदौर में ही नौकरी मिल जा रही है. जबकि पहले ऐसा नहीं होता था. दरअसल, ज्यादा वक्त नहीं हुए जब बाहरी कंपनियां में ही ज्यादातर विद्यार्थी नौकरी पाते थे. मौजूदा वक्त में इंदौर में कई नामी और मशहूर कंपनियां आ चुकी है, और शहर आईटी हब बनता जा रहा है.

दरअसल, आइटी पार्क में भी अमेरिका सहित विभिन्न देशों की बड़ी कंपनियों का आइटी काम देखने वाली कंपनियों ने दफ्तर खोला है. टीसीएस और इंफोसिस जैसी कंपनियों की दिलचस्पी इंदौर के युवाओं को लेकर काफी बढ़ी है. लिहाजा, आइटी सेक्टर में शहर की स्थिति बेहतर हो गई है. हाल-फिलहाल में इंफोसिस ने भी इंदौर के कई फ्रेशर को ई-मेल कर न्यूनतम 3.5 लाख रुपये का पैकेज ऑफर किया है. यही नहीं बल्कि पांच से सात वर्ष के अनुभव वाले युवाओं को इंदौर में ही 20 से 25 लाख रुपये तक का पैकेज मिला है.

CU-CET एंट्रेंस टेस्ट: 1 सितंबर आवेदन करने की लास्ट डेट, इस तारीख से होंगे एग्जाम

इस सेक्टर के जानकार मानते हैं कि कोरोना महामारी के बाद आइटी क्षेत्र में उछाल आया है. दरअसल, कई कंपनियों को ऑनलाइन काम करने के लिए ऑटोमेशन की जरूरत है. मौजूदा वक्त में दुनियाभर की कंपनियां नए सॉफ्टवेयर बनाने पर जोर दे रही है. ऐसे में दुनिया में आइटी सेक्टर में भारत का नाम काफी बेहतर है, इसके चलते यहां के युवाओं को सबसे ज्यादा काम मिल रहा है. विशेषज्ञ बताते हैं कि कंपनियों को डिमांड के मुताबिक, युवा मिल नहीं पा रहे हैं. बहरहाल, मौजूदा वक्त में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस और मशीन लर्निंग क्षेत्र में भी तेजी से काम हो रहा है. इस वजह से आईटी सेक्टर के युवाओं को पहले से बेहतर मौके मिल रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें