रिहाई से पहले ही एक अन्य मामले में जेल से ही गिरफ्तार किए गए कंप्यूटर बाबा

Smart News Team, Last updated: Fri, 13th Nov 2020, 3:10 PM IST
  • अतिक्रमण हटाने की मुहिम के दौरान 8 नवंबर को जेल भेजा गया था. चार दिन बाद पांच लाख रुपए की बैंक गारंटी पर जमानत मिली, लेकिन एक अन्य मामले में जेल में ही गिरफ्तारी. बाबा के साथ छह अन्य लोगों को भी जेल भेजा गया था. उन्हें अगले ही दिन जमानत मिल गई थी.
नामदेव दास त्यागी उर्फ कंप्यूटर  बाबा

इंदौर. इंदौर की सेंट्रल जेल में बंद नामदेव दास त्यागी उर्फ कंप्यूटर  बाबा अभी जेल में ही रहेंगे. 5 लाख की बैंक गारंटी पर एसडीएम कोर्ट से जमानत मिलने के बाद रिहा होने से पहले ही उनके खिलाफ एक और मामला दर्ज कर जेल ही से उनकी गिरफ्तारी की गई है. ऐसे में माना जा रहा है कि इस बार जेल में ही बाबा की दिवाली मनेगी. एससी-एसटी एक्ट के तहत दर्ज किए गए एक नए मामले के बाद वो फिलहाल जेल में ही रहेंगे. 

बीते 8 नवंबर को उनके आश्रम को तोड़ने की कार्रवाई के दौरान उन्हें गिरफ्तार किया गया था. उनके साथ उनके 6 शिष्यों को भी जेल भेजा गया था, जिन्हें अगले दिन ही जमानत मिल गई थी. गौरतलब है कि जिला प्रशासन ने 8 नवंबर को ग्राम जम्बूडी हप्सी में बाबा के आश्रम के अवैध कब्जे तोड़ने की कार्रवाई को अंजाम दिया था. इस दौरान अशांति फैलाने के आरोप में बाबा और उनके सहयोगियों सहित कुल सात लोगों को एसडीएम राजेश राठौर द्वारा अगले आदेश तक जेल भेज दिया गया था. कार्रवाई के दौरान करीब 100 जवानों के कई पुलिस अधिकारी भी मौजूद थे. 

पूर्व छात्रों ने की मौजूदा छात्रों की मदद, ऑनलाइन क्लास के लिए दिए मोबाइल

प्रशासन ने सुपर कॉरिडोर पर करीब पांच करोड़ मूल्य की 20 हजार वर्गफीट जमीन मुक्त कराई थी. इसके बाद टीम अंबिकापुरी एक्सटेंशन के देवी मंदिर पहुंची. यहां बाबा ने कब्जा कर भवन बना रखा था. इसे लेकर रहवासी संघ कई शिकायतें कर चुका है. प्रशासन ने आश्रम खाली कराया और भवन रहवासी संघों को सौंप दिया. साथ ही दीवार पर सूचना भी लिखवा दी कि अब यह सार्वजनिक संपत्ति है. अभियान के दौरान आश्रम से दस ट्रक सामान निकला था. सामान हटाने में निगमकर्मियों को दो घंटे लग गए थे. 1965 में जन्मे नामदेव दास त्यागी को नरसिंहपुर में साल 1998 में एक बाबा ने उनके गैजेट प्रेम और हमेशा लैपटॉप साथ में रखने के चलते कंप्यूटर बाबा नाम दिया था।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें