एमपी सरकार पर कांग्रेस का हमला, मंडी शुल्क में कटौती को बताया केवल चुनावी पैतरां

Smart News Team, Last updated: 08/10/2020 06:25 PM IST
  • मध्यप्रदेश में उपचुनावों को लेकर कांग्रेस और भाजपा के बीच लड़ाई तेज होती जा रही है. अब नेता नरेंद्र सलूजा ने शिवराज सिंह चौहान पर व्यापारियों को मूर्ख बनाने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि मंडी शुल्क में कटौती केवल और केवल चुनावी पैतरां है.
कांग्रेस नेता नरेंद्र सलूजा ने शिवराज सिंह चौहान पर व्यापारियों को मूर्ख बनाने का आरोप लगाया है

 इंदौर: चुनावी माहौल के बीच मध्यप्रदेश में लगातार कांग्रेस पार्टी, सरकार पर निशाना साध रही है. बता दें, हाल ही में शिवराज सरकार ने मंडी टैक्स में कटौती की थी, जिसका कांग्रेस जमकर विरोध कर रही है. कांग्रेस ने शिवराज सरकार पर लोगों को धोखा देने का आरोप लगाया है, कांग्रेस ने कहा कि यह बिजली बिल माफी की घोषणा की तरह ही बड़ा धोखा है, सरकार किसान के साथ-साथ व्यापारियों के साथ भी धोखा कर रही है. बिजली बिल की तरह मंडी शुल्क में कटौती केवल और केवल चुनावी पैतरां है, व्यापारियों को बेवकूफ बनाने का.

कांग्रेस नेता नरेंद्र सलूजा ने कहा 'जिस तरह प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने बिजली बिल को लेकर झूठ बोलकर प्रदेश की जनता के साथ बड़ा धोखा किया, वैसा ही धोखा मंडी शुल्क में कटौती के नाम पर व्यापारियों से भी किया है. मंडी ऐक्ट लाकर और नए तीन किसान विरोधी काले कानून लाकर किसानों के साथ पहले से ही बीजेपी धोखा कर चुकी है.'

कोरियर के नाम पर हवाला कारोबार करने वाले आरोपितों से चुनाव आयोग भी करेगा पूछताछ

सलूजा ने बताया कि शिवराज सिंह ने कोरोनावायरस महामारी में भारी भरकम बिजली बिलों की मार झेल रही जनता से पहले कहा था कि लॉकडाउन के बिजली बिल माफ होंगे, बाद में पलट गए और कहा स्थगित होंगे. फिर कहा कुछ लोगों के एक किलोवाट तक के ही स्थगित होंगे, उनकी भी बाद में जांच करेंगे? वैसे ही उनकी दूसरी घोषणा मंडी शुल्क को 1.70 रुपए से कम कर 50 पैसे करने की, यह भी व्यापारियों के साथ सिर्फ धोखा है, यह भी सिर्फ चुनावी लॉलीपॉप है, क्योंकि शिवराज जी खुद यह स्पष्ट कर चुके हैं कि यह घोषणा अभी अस्थायी है, यह स्थायी नहीं है. बाद में घट-बढ़ यानी आय की समीक्षा कर इस पर निर्णय लेंगे? बता दें, मध्यप्रदेश में उपचुनाव होने वाले हैं, 28 सीटों पर होंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें