कोरोना राहत इंदौर : आयुष्मान योजना के 170 अस्पतालों को मिली इलाज की अनुमति

Smart News Team, Last updated: 12/09/2020 08:27 PM IST
  • इंदौर. आयुष्मान योजना के तहत पंजीकृत 170 अस्पतालों को कोरोना मरीजों का इलाज करने के निर्देश जारी कर दिए हैं. सरकार ने अनुबंधित कोबिड अस्पतालों, प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों की तादाद बढ़ने से सामान्य और आईसीयू बेड फुल हो जाने के मद्देनजर कदम उठाया है.
प्रतीकात्मक तस्वीर

इंदौर| कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ रहे मामलों को मद्देनजर रखते हुए सरकार ने लोगों को राहत देने के लिए नया कदम उठाया है. उन्होंने आयुष्मान योजना के तहत पंजीकृत 170 अस्पतालों को कोरोना मरीजों का इलाज करने के निर्देश जारी कर दिए हैं. इन अस्पतालों में जब मरीजों का उपचार होने लगेगा तो कोरोना संक्रमण के मामले से प्रदेश की जनता को राहत मिल सकेगी.

वर्तमान समय में भोपाल सहित अन्य क्षेत्रों में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या काफी तेजी से बढ़ रही है. ऐसे में सरकार ने अनुबंधित कोबिड अस्पतालों, प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों की तादाद बढ़ने से सामान्य और आईसीयू बेड फुल हो जाने के मद्देनजर कदम उठाया है.

स्वास्थ्य संचालनालय ने इस संबंध के निर्देश जारी करते हुए बताया प्रदेश में आयुष्मान योजना के तहत पंजीकृत 170 अस्पतालों को कोरोना मरीजों का उपचार कराए जाने के लिए कह दिया गया है. इन अस्पतालों में 20 फ़ीसदी बेड कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व किए गए हैं. 170 अस्पतालों में से 59 अस्पताल भोपाल में हैं जो आयुष्मान कार्ड धारक या संदिग्ध मरीजों के इलाज के लिए यहां भेजे जाते हैं. अब अस्पताल उन्हें भर्ती करने से मना नहीं कर सकेगा. यदि कोई नान आयुष्मान पेशेंट यहां इलाज कराने आता है तो उसे उसका भुगतान उसे ही करना पड़ेगा. उन्होंने यह भी कहा यदि कोई अस्पताल इलाज से इंकार करता है तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.

अब हवा से ऑक्सीजन तैयार कर दी जाएगी मरीजों को, एमपी को मिली एक हजार मशीनें

सरकार व स्वास्थ्य विभाग द्वारा यह कदम लोगों को राहत दे रहा है. इसमें भविष्य की स्थिति और भयानक न हो इसके लिए इंतजाम किए जाने शुरू हो गए हैं. वहीं सरकार द्वारा इन मरीजों को जल्द से जल्द स्वस्थ करने का लक्ष्य रखा गया है. स्वास्थ विभाग का कहना है यदि सभी अस्पताल ईमानदारी से अपने कर्तव्यों का निर्वहन करें तो हम संक्रमण की इस जंग से अतिशीघ्र जीत सकते हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें