खुशखबरी: सरकारी अस्पतालों में भर्ती कोरोना मरीज से बात कर सकेंगे परिजन, शुरू होगा संवाद हेल्पडेस्क

Smart News Team, Last updated: Sun, 9th May 2021, 10:35 AM IST
  • मध्य प्रदेश सरकार जल्द ही सरकारी अस्पतालों में भर्ती कोरोना मरीजों को उनके परिजन बात करने के लिए नई सुविधा शुरू करने जा रही है. इस सुविधा के जरिए मरीजों के परिजन तबीयत जान सकेंगे.
खुशखबरी: सरकारी अस्पतालों में भर्ती कोरोना मरीज से बात कर सकेंगे परिजन शुरू होगा संवाद हेल्पडेस्क

इंदौर. मध्य प्रदेश की सरकार अस्पताल में भर्ती मरीजों को उनके परिवारों से बात कराने के लिए हेल्प डेस्क शुरू करने जा रही है. जिसकी मदद से सरकारी अस्पतालों में कोरोना से संक्रमित हुए मरीज आसानी से अपने परिजन से बात कर सकेंगे. वही इस हेल्प डेस्क का नाम संवाद रखा गया है. कोरोना से संक्रमित मरीजों से किसी को भी नहीं मिलने नहीं दिया जाता है. जिसको लेकर मरीज के परिजन हमेशा विवाद भी करते हैं. जिसे देखते हुए ही सरकार ने संवाद हेल्पडेस्क शुरू करने जा रही है. 

अभी तक केवल वह ही मरीज अपने घर वालों से बात कर पा रहे हैं जो अपने साथ फोन लेकर वार्ड में भर्ती हुए हैं. वही कई ऐसे मरीज हैं जिनके पास साधन नहीं होने के कारण अपने परिजनों से बात नहीं कर पाते हैं. जिसे देखते हुए ही सरकार ने इस हेल्पडेस्क की शुरुआत करने जा रही है. हेल्पडेस्क पर मौजूद कर्मचारी टैबलेट या फोन के जरिए मरीज से उनके परिजन से बात करवाएगा. जिसके लिए पहले ही परिजन को अपनी और मरीज की जानकारी देनी होगी. साथ ही इसके लिए टाइम शेड्यूल भी तय करना होगा. 

मदर्स डे 2021 पर इस अंदाज में करें अपनी प्यारी मां को विश, यादगार हो जाएगा दिन

इस नई योजना के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की तरफ से प्रदेश में सभी मुख्य चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी, सिविल सर्जन और अस्पताल अधीक्षक को निर्देश दिया जा चुका है. साथ ही कहा गया है कि प्रदेश में कोरोना मरीजों की बढ़ने के कारण उनके परिजन भी अस्पतालों के सामने खड़े रहते है. वही वह लगातार कोशिश में भी रहते है कि उनके परिजन का हाल चाल भी मिल जाए. जिसे देखते हुए ही कोरोना मरीजों की उनके परिजनों से बात कराने के लिए सभी सरकारी अस्पतालों में 2 महीने के लिए संवाद हेल्पडेस्क लगाया जाए.

इंदौर में कोविड पीड़ित युवती की अस्मत लूटने का प्रयास करने वाले 2 आरोपी गिरफ्तार

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें