इंदौर में कोविड टीकाकरण के प्रबंधन में जुटेंगे 44 विभागों के कर्मचारी

Smart News Team, Last updated: Sun, 27th Dec 2020, 3:04 PM IST
  • इंदौर जिले में सभी निजी और शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय व विभिन्न निजी चिकित्सालयों को टीका केंद्र के रूप में चिह्नित किया जाएगा. लगभग 8.5 लाख टीके रखने की व्यवस्था इंदौर में है. इंदौर जिले में कोविड टीके के लिए 25772 कर्मचारियों का पंजीयन किया जा चुका है, जिन्हें प्रथम चरण में टीका लगाया जाएगा.
सांकेतिक फोटो

इंदौर. इंदौर में कोविड-19 के टीकाकरण के प्रबंधन के लेकर तैयारियां जोरों पर है. इस काम में 44 विभागों के अधिकारियों व कर्मचारियों का सहयोग लिया जाएगा. इसके लिए उन्हें विशेष रूप से प्रशिक्षित किया जाएगा. इंदौर जिले में सभी निजी और शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय व विभिन्न निजी चिकित्सालयों को टीका केंद्र के रूप में चिह्नित किया जाएगा. टीकाकरण के लिए जिला स्तर पर टास्क फोर्स का गठन किया गया है. 

इसमें मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पूर्णिमा गडरिया को संयोजक और जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. तरुण गुप्ता को सचिव बनाया गया है. शनिवार को समिति की बैठक में बताया गया कि इंदौर जिले में कोविड टीके के लिए 25772 कर्मचारियों का पंजीयन किया जा चुका है, जिन्हें प्रथम चरण में टीका लगाया जाएगा. लगभग 8.5 लाख टीके रखने की व्यवस्था इंदौर में है. बैठक में कलक्टर मनीष सिंह ने कहा कि कोविड-19 टीकाकरण बहुत संदेनशील और चुनौतीपूर्ण मुद्दा है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रतिनिधि डॉ. सुधीर सोनी ने कहा कि कोविड-19 से डरने की नहीं बल्कि सावधान रहने की जरूरत है. इसका टीकाकरण अभियान अगले महीने शुरू हो जाएगा. टीकाकरण के लिए पहले ऑनलाइन पंजीयन किया जाएगा. रजिस्ट्रेशन के बाद माइक्रो प्लानिंग की जाएगी. फिर निर्धारित स्थान पर टीकाकरण किया जाएगा. 

इंदौर में नए साल पर बड़ा जश्न नहीं, 50 फीसदी क्षमता के साथ खुलेंगे कोचिंग सेंटर

सबसे पहले स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों और कोरोना इलाज से जुड़े स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण किया जाएगा. इसके बाद कोरोना से बचाव में लगे फ्रंटलाइन कर्मचारी जैसे महिला बाल विकास के कर्मचारी, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, स्कूल, पंचायत, नगर निगम और अन्य नगरीय निकायों के कर्मचारियों को टीका लगेगा. इसके बाद 50 साल से ज्यादा उम्र वालों और उसके बाद 50 से कम उम्र के ऐसे व्यक्तियों का टीका लगेगा, जिन्हें कोरोना का खतरा हो सकता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें