इंदौर में अनलॉक के बाद बस टैक्स माफी को लेकर एसोसिएशन ने शुरू किया आंदोलन

Smart News Team, Last updated: 26/08/2020 04:09 PM IST
  • इंदौर में कोरोना अनलॉक के बाद बस सेवा के सशर्त सुचारू करने के ऐलान के बाद भी निजी बसें पूरी तरह बंद हैं. निजी बस संचालक टैक्स माफी को लेकर आंदोलित हो गए है.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

इंदौर में लॉकडाउन से बंद बसों का सफर 153 दिन बाद इंदौर से दोबारा शुरू हुआ. तीन इमली बस स्टैंड पर ब्यावरा से पहली बस आई. नौलखा स्टैंड से सेंधवा बस का संचालन हुआ, लेकिन बस एसोसिएशन ने उसे रुकवा दिया. बस एसोसिएशन सरकार से बस टैक्स की माफ़ी की माँग कर रहे हैं .

तीन इमली बस स्टैंड से लॉकडाउन के पहले इंदौर के नौलखा तक 1200 बसों का संचालन होता था. अब फिर से कोरोना अनलॉक के बाद सरकार ने बस ऑपरेटरों को पूरी क्षमता के साथ बसों के संचालन की अनुमति दे दी. प्राइम रूट बस ऑनर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष गोविंद शर्मा का कहना है कि सरकार जब तक टैक्स माफी की घोषणा नहीं करती, हम बसों का संचालन नहीं करेंगे. सरकार ने टैक्स माफी की तैयारी भी शुरू कर दी है. लेकिन कुछ बस ऑपरेटरों ने बसों का संचालन पहले ही शुरू कर दिया. जिससे नाराज एसोसिएशन ने सेंधवा की एक बस का संचालन भी रुकवा दिया.

बस संचालकों ने बताया कि हर बस पर औसतन एक महीने में 70 हजार रुपए का खर्च आता है. बसों की किस्त, बीमे की राशि, दफ्तर किराया.और अन्य खर्च शामिल है.

1.5 लाख यात्री प्रदेशभर में रोजाना सफर करते हैं. ट्रेनें बंद हैं. बसों का संचालन जल्द से जल्द शुरू हो, इसे लेकर लोग परेशान हो रहे हैं.

कोरोना के चलते हर वर्ग अलग अलग तरीक़े से प्रभावित हुआ है. इससे पहले किसान लोन माफ़ी को लेकर उत्तर प्रदेश में और अभिभावक फ़ीस माफ़ी को लेकर उत्तर प्रदेश, राजस्थान और मध्य प्रदेश में आंदोलन कर रहे हैं. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें