इंदौर एडीजी वरुण कपूर की फर्जी FB आइडी, क्राइम ब्रांच ने बिहार से पकड़ा साइबर ठग

Smart News Team, Last updated: Mon, 7th Jun 2021, 9:09 PM IST
  • इंदौर के एडीजी वरूण कपूर की फर्जी फेसबुक आइडी बनाकर साइबर ठगी की वारदात को अंजाम देने वाले एक आरोपी को इंदौर क्राइम ब्रांच ने बिहार से गिरफ्तार कर लिया है.
इंदौर क्राइम ब्रांच ने बिहार से पकड़ा साइबर अपराधी .

इंदौर. इन दिनों साइबर क्राइम का एक नायाब तरीका हैकर आसानी से अपनाकर नामचीन लोगों के नाम पर हूबहू फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर लोगों से रुपयों की मांग करने लगते हैं. ऐसे ही एक आरोपी को इंदौर क्राइम ब्रांच पुलिस ने बिहार से गिरफ्तार किया है जिसने एडीजी की फर्जी आईडी बनाकर ठगी करने के प्रयास किया था.

 

दरअसल, इंदौर सहित मध्यप्रदेश के आला अधिकारियों के नाम से फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर रुपयों की मांग करने वाले ने एडीजी वरुण कपूर की आईडी बना ली और रुपयों की मांग करने लगा. मामला सामने आने पर एडीजी ने क्राइम ब्रांच को कार्रवाई के निर्देश दिए थे . क्राइम ब्रांच ने जांच के बाद आरोपी को बिहार के एक गांव से दबोच लिया. उसे इंदौर लाकर सात दिन के रिमांड पर लेकर पूछताछ की जा रही है.

डेल्टा वैरिएंट ने भारत में मचाई तबाही, अब ये नया स्वरूप ला सकता है बड़ा संकट

बता दें कि पिछले दिनों एडीजी वरूण कपूर की फर्जी फेसबुक आइडी बनाकर रुपये मांगने का मामला सामने आया था. एडीजी कपूर स्वयं साइबर एक्सपर्ट है और वर्तमान में आरएपीटीसी में पदस्थ हैं. आरोपी ने गत 16 मई को एडीजी वरूण कपूर के नाम से फर्जी आइडी बनाई और प्रोफाइल पर एडीजी का फोटो लगाया और उनके फेसबुक फ्रेंड्स, पुलिस अफसरों को रिक्वेस्ट भेज कर रुपये मांगे.

 

इसके लिए उसने बाकायदा गूगल - पे के लिए मोबाइल नंबर भी दिया. शक होने पर लोगों ने एडीजी को कॉल कर पूछा तो उन्होंने स्पष्ट रूप से इंकार कर दिया . तत्काल फेसबुक पर मैसेज पोस्ट कर अलर्ट किया और आरोपित की तलाश शुरू कर दी. बताया जाता है क्राइम ब्रांच ने फेसबुक मुख्यालय से जानकारी मांगी और गुरुवार को आरोपित अखिलेश निवासी कतरी सराय नालंदा बिहार को गिरफ्तार कर लिया .

इंदौर: कोरोना वैक्सीन लगवाने पर लकी ड्रॉ में एंट्री, मिलेगा ऑक्सीजन कंसंट्रेटर

जानकारी के मुताबिक फर्जी फेसबुक आईडी बना कर रुपये मांगने वाला गिरोह पिछले सालभर से वारदात कर रहा है. इंदौर के पश्चिम क्षेत्र के एसपी महेशचंद जैन की तो दो बार फर्जी आईडी बन चुकी है. इससे पूर्व उज्जैन के तत्कालीन एसपी मनोज सिंह के नाम से रुपये मांगे गए थे . ग्वालटोली थाना टीओ संजय शुक्ला, राजेंद्रनगर थाना टीआई अमृता सोलंकी सहित कई पुलिस अधिकारियों के नाम से भी रुपये मांगे गए थे . क्राइम ब्रांच और साइबर सेल के पास 100 से ज्यादा शिकायतें लंबित है, जिनके बारे में भी बिहार से गिरफ्तार किए गए आरोपी से पूछताछ की जा रही है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें