पिता ने किया बेटी को प्रताड़ित, घर में बनाया बंधक और दिया एक ही टाइम का खाना

Smart News Team, Last updated: Mon, 15th Mar 2021, 2:35 PM IST
  • इंदौर में पिता ने अपनी ही बेटी और परिवार के सदस्य को भाई के घर में बंधक बना दिया, साथ ही पिता के भाई द्वारा लोगों को प्रताड़ित भी किया गया. हालांकि, मामले में पिता और चाचा को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है.
पिता ने किया बेटी को प्रताड़ित, घर में बनाया बंधक और दिया एक ही टाइम का खाना (प्रतीकात्मक तस्वीर)

इंदौर में एक एक पिता द्वारा जहां अपनी बेटी को बंधक बनाने तो वहीं चाचा द्वारा उसे प्रताड़ित करने का मामला सामने आया है. युवती ने मामले को लेकर बताया कि उसके पिता और चाचा उसे बंधक बनाकर रखते थे, साथ ही उसके साथ मारपीट भी करते थे. इतना ही नहीं, वह केवल एक टाइम ही उसे और उसके भाई को खाना देते थे. मामले पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने आरोपी पिता और चाचा को गिरफ्तार कर लिया है.

युवती का नाम साक्षी है और उसके पिता का नाम घनश्याम श्रीवास है. घटना के बारे में बात करते हुए युवती ने कहा कि वह अपनी बड़ी बहन योगिता, छोटे भाई अक्षत और मां ललिता के साथ किशोर नगर, खंडवा में रहती थी. उसके पिता रिटायर्ड शिक्षक हैं और बीते 20 जनवरी को उन्होंने युवती से पैतृक गांव चलने की बात कही. युवती ने बताया कि पिता उसे धोखे से लिंबोदी में चाचा प्रदीप के घर लेकर आ गए.

सड़क पर मिला सीमेंट व्यापारी का शव, सिर में लगी थी गोली, पास में पड़ी थी पिस्टल

युवती के मुताबिक यहां आते ही चाचा ने गाली-गलौज करनी शुरू कर दी, और जब उसने वजह पूछी तो चाचा इतनी जोर से चिल्लाए कि वह बेहोश ही हो गई. युवती के मुताबिक उसे अस्पताल ले जाया गया, जहां वह कांप रही थी. इतना ही नहीं, वह खड़ी तक नहीं हो पा रही थी. युवती के अनुसार घर पहुंचते ही उसके चाचा ने डंडे से मारना शुरू कर दिया और उसके भाई के साथ भी चाचा और पापा ने मारपीट की. युवती के मुताबिक उन्हें बंधक बनाकर रखा गया था. वहीं, मामले को लेकर 15वीं बटालियन में पदस्थ सुबेदार राधेश्याम ने बताया कि उन्हें रात को 1 बजे फोन आया था, जिसमें बहन ललिता और बेटियां रो रही थीं. उन्होंने कहा कि अगर उन्हें नहीं बचाया गया तो वह आत्महत्या कर लेंगे. ऐसे में हम तत्कार ही कार से पुलिस लेकर वहां पहुंचे और सभी को रिहा करवाया.

इंदौर गैराज में खड़ी 4 बसों में लगी आग, चौकीदार ने भागकर बचाई जान

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें