इंदौर में घर बैठे बनवा सकते हैं लर्निंग लाइसेंस, 31 जुलाई से शुरू होगी सुविधा

Smart News Team, Last updated: Fri, 2nd Jul 2021, 12:55 PM IST
  • इंदौरा में परिवहन विभाग की घर बैठे लाइसेंस बनवाने की व्यवस्था इस महीने के आखिर शुरू हो जाएगी. इससे पहले इस प्रक्रिया को इस साल के अप्रैल महीने से ही लागू किया जाना था, लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते लगे लॉकडाउन के कारण इसे लागू नहीं किया जा सका, जिसको अब इस महीने के आखिर से लागू किया जाएगा.
इंदौर में घर बैठे बनवा सकते हैं लर्निंग लाइसेंस

अब इंदौर शहर के लोगों को लर्निंग लाइसेंस के लिए बाहर भटकने की जरूरत नहीं है. अब आप घर बैठे ही अपना लर्निंग लाइसेंस हासिल कर सकते हैं, जिसको परिवहन विभाग द्वारा घर बैठे लाइसेंस बनवाने की व्यवस्था इस महीने के आखिर तक लागू कर दिया जाएगा. इससे पहले इस व्यवस्था को अप्रैल महीने से ही लागू किया जाना था, लेकिन कोरोना संक्रमण के चलते लॉकडाउन के कारण लागू नहीं किया जा सका. वहीं इससे पहले प्रदेश के ही दो जिलों सतना और खरगोन में इस व्यवस्था का ट्रायल किया गया था, जो सफल रहा.

वहीं इस बारे में ज्यादा जानकारी देते हुए संभागीय उप परिवहन आयुक्त सपना जैन ने बताया कि हम काफी लंबे समय से ही घर बैठे लाइसेंस बनावाने को लेकर तैयारी कर रहे थे, जिसकी तैयारियां पूरी हो चुकी है और अब इसे शुरू कर दिया जाएगा. साथ ही वो कहते हैं कि हमारी कोशिश है कि आवेदक को कम से कम ऑफिस आने की जरूरत पड़े. उनके ज्यादा से ज्यादा काम ऑनलाइन घर बैठे ही हो जाए. उन्होंने बताया कि इस महीने के आखिर से इस व्यवस्था को लागू कर दिया जाएगा. अब आवेदक अपने घर से या एमपी ऑनलाइन से जाकर से यह परीक्षा दे सकेगा. 

अब इंदौर को भी मिलने जा रहा है 'नाइट सफारी' का आनंद, तैयारियों में जुटा प्रशासन

इस ऑनलाइन टेस्ट के दौरान 10 में से 6 सवालों के सही जवाब देने पर आवेदक पास माना जाएगा. इसके अलावा वाहनों के नाम ट्रांसफर करने के लिए भी यह प्रक्रिया लागू की जाएगी. बता दें कि अभी इसके लिए आवेदक को परिवहन विभाग की वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होता हैं, जिसमें तय समय पर आरटीओ पहुंचने के बाद टेबलेट पर यह टेस्ट देना होता हैं. पास होने वाले आवेदक को आधे घंटे में लाइसेंस मिल जाता हैं, जो 6 महीने के लिए वैध माना जाता है. एक महीने बाद वो पक्के लाइसेंस के लिए आवेदन कर ट्रायल देकर लाइसेंस बनवा सकता हैं.

इंदौर RBI अधिकारी बनकर करोड़ों लूटा, IT और बैंको की फर्जी सील बरामद

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें