सरकार ने वापस लिया रात का कर्फ्यू, फैसला इंदौर जिला प्रशासन पर छोड़ा

Smart News Team, Last updated: Fri, 25th Dec 2020, 2:25 PM IST
  • इंदौर के कलक्टर मनीष सिंह ने कहा है कि इस बारे में आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में बात करके निर्णय करेंगे, तब तक वर्तमान गाइडलाइन जारी रहेगी. वहीं, भाजपा नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे ने कहा कि शहर में रात का कर्फ्यू खोले जाने को लेकर जारी आदेश का इंदौर क्राइसिस मैनेजमेंट समिति ने समर्थन किया है.
फाइल फोटो

इंदौर. मध्य प्रदेश सरकार ने भोपाल, इंदौर, ग्वालियर, रतलाम और विदिशा में रात 10 से सुबह छह बजे तक लगा कर्फ्यू वापस ले लिया है. इन जिलों में कोरोना के मामलों में पिछले दिनों आई कमी को देखते हुए सरकार ने यह फैसला लिया है. हालांकि इस आदेश के संदर्भ में जिला प्रशासन को निर्णय करना है, उसके बाद ही होटल, रेस्त्रां व अन्य व्यावसायिक संस्थान देर रात तक खोले जा सकेंगे. 

इंदौर के कलक्टर मनीष सिंह ने कहा है कि इस बारे में आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में बात करके निर्णय करेंगे, तब तक वर्तमान गाइडलाइन जारी रहेगी. वहीं, भाजपा नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे ने शुक्रवार को कहा कि शहर में रात का कर्फ्यू खोले जाने को लेकर भोपाल से जारी आदेश का इंदौर क्राइसिस मैनेजमेंट समिति ने भी समर्थन किया है. इसके अलावा इंदौर में कोचिंग के हॉल की क्षमता की 50 फीसदी उपस्थिति के साथ कोचिंग चालू करने का सुझाव क्राइसिस मैनेजमेंट की टीम ने प्रशासन को दिया है. बता दें कि कलक्टर मनीष सिंह द्वारा 22 नवंबर को जारी गाइडलाइन के अनुसार शादी, ब्याह, सामाजिक, धार्मिक व सांस्कृतिक कार्यक्रम में 250 लोगों को बुलाया जा सकता है. पार्टी, मिलन समारोह में अधिकतम 20 लोगों को ही बुलाया जा सकता है. इस गाइडलाइन के अनुसार न्यू ईयर की पार्टी में अधिकतम 20 लोग ही आ सकते हैं. रात 10 बजे तक ही होटल और रेस्त्रां खुले रह सकते हैं. 

इंदौर के थानों में रखे जब्त वाहनों की नीलामी जल्द, भवरकुआं थाने से होगी शुरुआत

वहीं, होटल एंड रेस्टोरेंट एसोसिएशन ने इस संबंध में जल्द स्थिति स्पष्ट करने की मांग की है. एसोसिएशन के प्रदेशाध्यक्ष सुमित सूरी ने कहा कि शासन को जो भी फैसला देना है, चाहे हां हो या ना, जल्द स्पष्ट कर दे, ताकि होटल व रेस्टोरेंट संचालकों के लिए आयोजन को लेकर असमंजस दूर हो. सहायक आयुक्त आबकारी राजनारायण सोनी ने बताया कि एक दिन के बार लाइसेंस के लिए आवेदन आ रहे हैं, लेकिन शासन की गाइडलाइन के चलते इन पर विचार नहीं किया जा रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें