SDM पर कालिख पोतने पर हंगामा, सोमवार को MP में प्रशानिक काम रहेंगे ठप, हड़ताल

Smart News Team, Last updated: Sun, 20th Sep 2020, 12:45 PM IST
  • मध्य प्रदेश के एसडीएम सीपी पटेल के मुंह पर कालिख पोतने के विरोध में एमपी प्रशासनिक सेवा के 60 हजार से अधिकारी और कर्मचारी हड़ताल पर बैठ गए हैं. जिसके कारण सोमवार से तहसील में काम नहीं होगा.
एमपी में सोमवार से सभी तहसीलें बंद, 60 हजार अधिकारियों ने घोषित की हड़ताल

इंदौर. एमपी के चौरई ब्लॉक के एसडीएम सीपी पटेल के मुंह पर कालिख पोतने के विरोध में मध्य प्रदेश प्रशासनिक सेवा के सभी अधिकारी, तहसीलदार, राजस्व निरीक्षक संघ, पटवारी संघ समेत 60 हजार अधिकारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर बैठ गए हैं. इसके बाद सोमवार से तहसील का काम बंद रहेगा. 

प्रदेश में सोमवार से आय प्रमाण पत्र से लेकर जाति प्रमाण पत्र या किसी अन्य सरकारी काम प्रभावित रहेंगे. प्रसाशनिक संघ द्वारा घोषित अनिश्चित हड़ताल को कई संगठनों से समर्थन दिया है. कर्मचारियों का आरोप है कि राजनीतिक पार्टियां सिर्फ चर्चा में आने के लिए कमर्चारियों के साथ बदसलूकी करती हैं. इसी वजह से आम लोगों की तरह राजनीतिक पार्टियों को भी कोर्ट में आकर अकेले ज्ञापन देना होगा.

एमपी प्रशासनिक सेवा संघ के अध्यक्ष जीपी माले ने बताया कि राज्य में इस तरह की घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं. कहीं भी यह नियम नहीं कि भीड़ में आकर ज्ञापन दिया जाए. जिस तरह आम लो अकेले ज्ञापन देने आते हैं वैसे ही राजनीतिक पार्टियां भी आएं. यह हड़ताल किसी पार्टी के खिलाफ नहीं है, यह व्यव्स्था के विरोध में है. हम नियमों के अनुसार काम करते हैं और हम ही निशाना बनते हैं. 

इंदौर: नकाबपोशों ने टोल प्लाजा पर जमकर की तोड़फोड़, पुलिस ने किसानों पर जताया शक

कर्मचारियों का कहना है कि प्रदर्शन चाहे सत्ता में बैठी पार्टी का हो या विपक्ष का हो, लेकिन निशाना कर्मचारी और अधिकारी ही बनते है. दो दिन पहले उज्जैन में पुलिस अधिकारी के साथ बदसलूकी हुई लेकिन उन्हीं का तबादला कर दिया गया.  

इंदौर: अस्पतालों के पास ऑक्सीजन की किल्लत, बची है एक-दो दिन की ऑक्सीजन

शुक्रवार को छिंडवाड़ा में कांग्रेस के नेताओं ने एसडीएम कार्यालय का घेराव किया था. ज्ञापन लेने पहुंचे एसडीएम के मुंब पर कालिख पोत दी थी. वहीं पुलिस प्रशासन की कार्रवाई में कांग्रेस नेताओं ने पथराव भी किया था. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें