कोरोना ने ली इंदौर हाईकोर्ट की जज वंदना केसरकर की जान, सीएम शिवराज ने जताया शोक

Smart News Team, Last updated: 13/12/2020 03:36 PM IST
  • इंदौर हाइकोर्ट की महिला जज वंदना केसरकर की 13 दिसंबर सुबह मौत हो गई. वे अगले साल रिटायर होने वाली थी. कुछ दिनों पूर्व उनकी तबीयत नासाज होने के बाद उन्हें कोरोना कंफर्म हुआ था. इससे पहले इंदौर की पहचान और मशहूर शायर राहत इन्दौरी साहब की भी कोरोना से मौत हो गई थी.
इंदौर हाईकोर्ट की जज वंदना केसरकर की फाइल फोटो

इंदौर. इंदौर में कोरोना का कहर जारी है. कोरोना से होने वाली मौतों में हाई प्रोफाइल लोग भी शामिल हैं. कोरोना से जहां इंदौर की पहचान और मशहूर शायर राहत इन्दौरी साहब की मौत हो गई थी, वहीं अब इंदौर हाइकोर्ट की महिला जज वंदना केसरकर की 13 दिसंबर सुबह मौत हो गई. वे अगले साल रिटायर होने वाली थी. कुछ दिनों पूर्व उनकी तबीयत नासाज होने के बाद उन्हें कोरोना कंफर्म हुआ था. 

उनकी तबीयत लगातार बिगड़ती जा रही थी, जिसके कारण उन्हें एयरलिफ्ट करके दिल्ली एम्स में इलाज के लिए ले जाने की भी बात सुनने में आई थी. लेकिन, बाद में उनकी तबीयत इतनी खराब हो गई कि उन्हें एयरलिफ्ट तक करने में रिस्क था और उनका इलाज इंदौर के ही एक प्राइवेट अस्पताल में किया जा रहा था. इंदौर के कोरोना केयर के नोडल अधिकारी अमित मालाकार के अनुसार, जस्टिस वंदना केसरकर को कोरोना था. मल्टी ऑर्गन फैलियर की वजह से रविवार, 13 दिसंबर को उनका निधन हो गया. उन्हें दिल्ली रेफेर किया गया था, लेकिन उम्र ज्यादा होने और तबीयत ज्यादा बिगड़ने की वजह से यह संभव नहीं हो पाया. 

सीएम शिवराज ने कहा- इंदौर में नशे के कारोबारियों को पनपने नहीं दिया जाएगा

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने जस्टिस बंदना केसरकर की कोरोना से हुई मौत पर संवेदना व्यक्त करते हुए ट्वीट किया है. साथ ही इंदौर बार एसोसिएशन ने भी जस्टिस वंदना की मृत्यु पर दुःख व्यक्त किया है. गौरतलब है कि कुछ दिन पहले ही इंदौर हाईकोर्ट में कई सारे कर्मचारियों के कोरोना संक्रमित होने के बाद हड़कंप मच गया था. इसके बाद पूरे हाईकोर्ट को सेनेटाइज करने की चर्चा भी जोरों पर थी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें