इंदौर के थानों में गड़बड़ियां देख आईजी बोले- अगली बार ऐसा ही रहा तो छोड़ूंगा नहीं

Smart News Team, Last updated: Fri, 4th Dec 2020, 1:46 PM IST
  • कनाड़िया तथा भंवरकुंआं थाने के निरीक्षण के दौरान दोनों टीआई को लाइन अटैच करने के बाद आईजी योगेश देशमुख ने पुलिस अफसरों की क्लास ली. उन्होंने अधिकारियों से साफ कह दिया कि वह जिस भी थाने में जा रहे हैं, वहां काफी गड़बड़ियां मिल रही हैं. अगली बार सब व्यवस्थित नहीं मिला तो कार्रवाई के लिए तैयार रहें.
इंदौर के भंवरकुआं थाने का निरीक्षण करते आईजी योगेश देशमुख

इंदौर. आईजी योगेश देशमुख आजकल काफी सख्ती दिखा रहे हैं. पुलिस लाइन में जांच और कनाड़िया तथा भंवरकुंआं थाने के निरीक्षण के दौरान दोनों टीआई को लाइन अटैच करने के बाद आईजी योगेश देशमुख ने गुरुवार को पुलिस अफसरों की क्लास ली. पलासिया थाने के पीछे नए पुलिस कंट्रोल रूम में उन्होंने अधिकारियों से साफ कह दिया कि वह जिस भी थाने में जा रहे हैं, वहां काफी गड़बड़ियां मिल रही हैं. अगली बार यही हाल रहा तो आप लोगों को छोड़ूंगा नहीं. 

आईजी ने मीटिंग में गैरहाजिर रहे दो अफसरों के बारे में भी जानकारी ली. आईजी की इस मीटिंग में सीएसपी, एसडीओपी और एएसपी स्तर के अफसरों के साथ एसपी और डीआईजी भी मौजूद थे. उन्होंने सभी सीएसपी को जमकर फटकारा. उन्होंने कहा कि थानों में कौन सी कार्रवाई हो रही है, कौन सी कायमी हो रही है, इनकी भी आप लोगों को जानकारी नहीं है. थानों के सभी मालखाने की पेंडेंसी दिसंबर तक खत्म हो जाना चाहिए. थानों पर केस समय से निपटाएं. मालखाने में सफाई से लेकर सारे रिकॉर्ड मेंटेन रखें. अगली बार सब व्यवस्थित नहीं मिला तो कार्रवाई के लिए तैयार रहें. 

इंदौर में स्वास्थ्यकर्मियों ने कहा- कोरोनाकाल में काम करवाया, अब कह रहे घर जाओ

आईजी ने मीडिया से चर्चा से कहा कि सीएसपी, एसडीओपी और एएसपी स्तर के अफसर एक पर्यवेक्षण अधिकारी के तौर पर काम करते हैं. थानों में जो कमियां पाई हैं, उन्हें दूर करने के लिए इन सभी की मीटिंग ली है. आने वाले समय में थानों के रखरखाव, रिकार्ड व अन्य चीजें व्यवस्थित हों, जिससे थानों में जनता के साथ जो न्यायोचित कार्रवाई हो उसमें कोई बाधा उत्पन्न न हो. साथ ही हमारा काम सुचारू रूप से चलता रहे. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि थानों की संख्या ज्यादा है और अधिकारियों के पास काम बहुत है. नियमित निरीक्षण हमारी ड्यूटी का हिस्सा है. फिर भी जो कमी है, उन्हें दूर करने के लिए कहा गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें