आईआईटी इंदौर की पहल, सेना के लिए स्वदेशी और नवीन तकनीकों पर करेगा काम

Smart News Team, Last updated: 14/02/2021 04:31 PM IST
  • आईआईटी इंदौर सेना के लिए स्वदेशी और नवीन तकनीकों पर काम करेगा. मामले को लेकर आईआईटी के कार्यवाहक निदेशक प्रोफेसर नीलेश कुमार जैन और मिल्ट्री कॉलेज ऑफ टेलिकम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग महू के कमांडेंट लेफ्टिनेंट एम उन्नीकृष्णन नायर के बीच बैठक हुई, जिसमें कई योजनाओं पर बातचीत की गई.
आईआईटी इंदौर (फाइल तस्वीर)

आईआईटी इंदौर अब सेना के लिए स्वदेशी और नवीन तकनीकों पर काम करने जा रहा है. इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के कार्यवाहक निदेशक प्रोफेसर नीलेश कुमार जैन और मिल्ट्री कॉलेज ऑफ टेलिकम्यूनिकेशन इंजीनियरिंग के कमांडेंट लेफ्टिनेंट एम उन्नीकृष्णन नायर के बीच शनिवार को बैठक भी हुई, जिसमें उन्होंने विश्वस्तर की सुविधाओं और विशेषताओं पर साथ मिलकर काम करने की योजना बनाई.

चर्चा के दौरान आईआईटी इंदौर के डीन और रजिस्ट्रार भी मौजूद रहे. बैठक के दौरान प्रो. जैन ने शैक्षणिक और अनुसंधान के हित को बढ़ाने के लिए सेना के अधिकारियों और जवानों को उपलब्ध विभिन्न अवसरों के बारे में बातचीत की. उन्होंने कमांडेट को रक्षा से संबंधित संस्थान में चल रहे शोध कार्यों के बारे में भी अवगत कराया. प्रो. जैन ने बैठक के बीच कहा कि आईआईटी इंदौर, सेना में आने वाली समस्याओं पर संयुक्त रूप से काम करना जारी रखेगा और स्वदेशी और नवीन तरीकों से तकनीकी समाधान करने की भी कोशिश करेगा.

इंदौर में वैक्सीन लगाते ही जू कर्मचारी हुआ बेहोश, डॉक्टर ने बीपी को बताया कारण

वहीं, दूसरी और कमांडेट ने आईआईटी संस्थान के संकायों को एमसीटीइ को जानने और संयुक्त रूप से उनकी समस्याओं का समाधान खोजने पर काम करने के लिए आईआईटी को आमंत्रित किया. अब देखना यह है कि आईआईटी इंदौर किस तरह से सेना में स्वदेशी और नवीन तकनीकों के स्तर पर काम कर उनकी मदद करेगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें