इंदौर में बदमाश इस्लाम पटेल और मुख्तार शेख के अवैध दुकान व मकान जमींदोज

Smart News Team, Last updated: 04/12/2020 02:32 PM IST
  • इंदौर में गुंडे और बदमाशों के खिलाफ पुलिस प्रशासन ने नगर निगम के साथ मिलकर गुंडा विरोधी मुहिम छेड़ रखी है. इसके तहत लिस्टेड 15 बदमाशों के घरों को जमींदोज किया जा रहा है. यह मुहिम पिछले कई दिनों से लगातार जारी है.
अवैध निर्माण को ढहाती नगर निगम की जेसीबी

इंदौर. इंदौर में चल रहे गुंडा विरोधी अभियान के तहत शुक्रवार सुबह जिला प्रशासन, नगर निगम व पुलिस द्वारा संयुक्त कार्रवाई करते हुए शहर के तीन अलग-अलग स्थानों पर गुंडों के अवैध अतिक्रमण को जमींदोज करने की कार्रवाई को अंजाम दिया गया. बदमाश इस्लाम पटेल और मुख्तार शेख की अवैध दुकान व मकान को जमींदोज किया गया. जमजम चौराहे पर स्थित इस्लाम पटेल के अवैध अतिक्रमण कर बनाई गई बिल्डिंग को जमींदोज कर दिया गया तो वहीं पास ही में बनी कुछ दुकानों को भी तोड़ा गया. 

बता दें इस्लाम पटेल पर दर्जनों अपराधिक मामले दर्ज हैं. इसी के तहत इस्लाम पटेल के अवैध अतिक्रमण को तोड़ा गया. वहीं दूसरी कार्रवाई भू माफिया मुख्तार शेख के कादर कॉलोनी स्थित बहु मंजिला इमारत पर की गई. मुख्तार पर करीब 18 अपराधिक मामले दर्ज हैं. इससे पहले भी मुख्तार के अवैध अतिक्रमण को गुंडा अभियान के तहत तोड़ा जा चुका है, जिसमें उसके कई गोदाम व दुकानें शामिल थीं. फिलहाल मुख्तार शेख की और भी कई अवैध संपत्तियों का खाका तैयार किया जा रहा है, ताकि आर्थिक रूप से कमजोर कर उसकी अपराधिक दुनिया समाप्त की जा सके. नगर निगम की तीसरी बड़ी कार्रवाई पंढरीनाथ थाना क्षेत्र के लिस्टेट बदमाश जीशान के कबूतर खाना स्थित मकान पर की गई. उसके अवैध अतिक्रमण को जमीदोंज कर दिया गया. 

इंदौर में मसालों में मिलाते थे हानिकारक तेल, दो फैक्ट्रियां सील

नगर निगम के अपर आयुक्त देवेंद्र सिंह के अनुसार, इंदौर में गुंडा विरोधी अभियान लगातार जारी है. गौरतलब है कि मध्य प्रदेश के इंदौर में इन दिनों लिस्टेड गुंडे और बदमाशों के खिलाफ पुलिस प्रशासन ने नगर निगम के साथ मिलकर एक मुहिम छेड़ रखी है. इस मुहिम का नाम गुंडा विरोधी मुहिम है. इसके तहत लिस्टेड 15 बदमाशों के घरों को जमींदोज किया जा रहा है. यह मुहिम पिछले कई दिनों से लगातार जारी है. इसके तहत गुंडे व बदमाशों द्वारा जमीन अतिक्रमण कर बनाए गए निर्माण को तोड़ा जा रहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें