इंदौर में आईएमए की हड़ताल को समर्थन, इमरजेंसी को छोड़ अन्य सेवाएं होंगी बाधित

Smart News Team, Last updated: 10/12/2020 08:26 PM IST
  • शुक्रवार को आईएमए की हड़ताल से डॉक्टरों से संबंधित सभी सेवाओं पर असर पड़ेगा. आपातकालीन सेवाओं को छोड़कर बाकी सारी मेडिकल सेवाएं कल बाधित रहेंगी. हॉस्पिटल्स, क्लिनिक्स, ओपीडी, डिस्पेंसरीज आदि सब बंद रहेंगे.
सांकेतिक फोटो

इंदौर. मध्य प्रदेश में कुछ दिन पूर्व अस्थाई स्वास्थ्यकर्मियों ने सरकार का विरोध करने के लिए प्रदर्शन किया था और अब पूरे देश के डॉक्टरों द्वारा घोषित हड़ताल. एक तरफ जहां पूरे देश में कोरोना लगातार अपने पैर पसार रहा है, वहीं दूसरी ओर 11 दिसंबरशुक्रवार को ऑल इंडिया मेडिकल एसोसिएशन ने हड़ताल की घोषणा की है. सुबह 6:00 बजे से शाम को 6:00 बजे तक डॉक्टरों से संबंधित सभी सेवाओं पर हड़ताल का असर पड़ेगा. 

आपातकालीन सेवाओं को छोड़कर बाकी सारी मेडिकल सेवाएं कल बाधित रहेंगी. हॉस्पिटल्स, क्लिनिक्स, ओपीडी, डिस्पेंसरीज आदि सब बंद रहेंगे. सेंट्रल काउंसिल ऑफ इंडियन मेडिसिन के एक नोटिफिकेशन के बाद हड़ताल की घोषणा की गई है, जिसके तहत आयुर्वेदिक के पोस्ट ग्रेजुएट्स को सर्जरी करने की इजाजत दी गई है. इस फैसले के खिलाफ आंदोलन करते हुए आइएमए ने कल हड़ताल की घोषणा की है. ऑल इंडिया मेडिकल एसोसिएशन का कहना है कि बिना किसी आधार के और बिना मेडिकल एसोसिएशन की राय मशवरा लिए ही आयुर्वेदिक डॉक्टरों को सर्जरी करने की परमिशन दे दी गई है, जो गलत है. इस हड़ताल के माध्यम से ऑल इंडिया मेडिकल एसोसिएशन ने आयुर्वेदिक डॉक्टरों की सर्जरी करने की काबिलियत पर भी सवालिया निशान लगाया है. 

इंदौर: सीएमएचओ को डांटने वाले कलेक्टर को भाजपा नेता ने ट्वीट कर लगाई फटकार

दरअसल, अब तक आयुर्वेदिक डॉक्टर को छोटी मोटी जनरल सर्जरी करने की परमिशन थी, लेकिन सेंट्रल काउंसिल ऑफ इंडियन मेडिसिन के नोटिफिकेशन के बाद डॉक्टरों को आंख, कान, गले की विशेष सर्जरी करने की इजाजत मिल गई है, जिसका आईएमए द्वारा खुलकर विरोध किया जा रहा है. हालांकि कोरोना से संबंधित डॉक्टरी सेवाओं को हड़ताल में शामिल नहीं किया गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें