इंदौर में देश का दूसरा सबसे बड़ा कोविड केयर सेंटर बनकर तैयार, जल्द होगा शुरू

Smart News Team, Last updated: 23/04/2021 03:57 PM IST
इंदौर में देश का दूसरा सबसे बड़ा कोविड केयर सेंटर बनकर तैयार हो गया है. इसे जल्द ही शुरू किया जाएगा. यहां 6 हजार बेड तक बढ़ाने की क्षमता है. अभी 600 बेड के साथ इस सेंटर की शुरुआज की जा रही है. पहले चरण के तहत 2 हजार बेड भी जल्द तैयार कर लिए जाएंगे.
इंदौर में देश का दूसरा सबसे बड़ा कोविड केयर सेंटर बनकर तैयार हो गया है.

इंदौर. इंदौर में कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. राज्य में पिछले 24 घंटों में यहां सबसे ज्यादा 1782 नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं. लेकिन यहां के लोगों के लिए एक राहत भरी खबर है. इंदौर में अब देश का दूसरा सबसे बड़ा कोविड केयर सेंटर बनकर तैयार हो चुका है. आपको बता दें कि खंडवा रोड पर स्थित राधास्वामी सत्संग भवन में मां अहिल्या कोविड केयर सेंटर बनाया गया है. यहां 6 हजार बेड तक बढ़ाने की क्षमता है. फिलहाल 600 बेड के साथ इस सेंटर की शुरुआज की जा रही है. पहले चरण के तहत 2 हजार बेड भी जल्द तैयार कर लिए जाएंगे. इस सेंटर पर मरीजों के इलाज की जिम्मेदारी शहर के चार बड़े अस्पतालों को सौपी गई है.

जानकारी के अनुसार सेंटर पर मरीजों के लिए ऑक्सीजन की व्यवस्था के साथ ही खाने के अलावा गर्म और ठंडे पानी की व्यवस्था रहेगी. सेंटर में केवल उन्हीं मरीजों को भर्ती किया जाएगा जो इंदौर जिले के रहने वाले हैं जिन्हें थाना स्तर पर बनाई गई रैपिड टेस्ट की टीम रैफर करेंगी. सेंटर का प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट को बनाया गया है. इसके अलावा अलग- अलग स्तर के सरकारी अधिकारी ड्यूटी पर तैनात रहेंगे. सेंटर में सेवा के लिए RSS के कार्यकर्ता भी मौजूद रहेगें. मरीजों की सुरक्षा और मॉनिटरिंग के लिए पूरे परिसर में CCTV कैमरे भी लगाए गये हैं.

मंत्री ने कोविड सेंटर के लिए निकाली डॉक्टर की वैकेंसी, खुद देंगे 2 लाख की सैलरी

गौरतलब है कि कोविड सेंटर से लोगों के मनोरंजन की भी व्यवस्था की गई है. कलेक्टर मनीष सिंह ने बताया कि कोविड केयर सेंटर बनाए गए इस अस्थायी हॉस्पिटल को देवी अहिल्या बाई नाम दिया गया है. यहां मरीजों की सुविधा को देखते हुए एक लैब भी तैयार की जा रही है. इसमें RTPCR जांच को छोड़कर सभी जांचें की जा सकेंगी. यहां मरीजों को भेजने से पहले रैपिड रिस्पांस टीम उनकी स्क्रीनिंग करेगी. यहां वे ही मरीज भर्ती होंगे जिन्हें ऑक्सीजन की जरूरत नहीं होगी. इस अस्थायी अस्पताल में मरीजों के मनोरंजन के लिए 10 एलईडी स्क्रीन लगाई गई हैं. इन पर रामायण, महाभारत और IPL जैसे प्रोग्राम का प्रसारण होगा.

ज्ञात हो कि यहां 2.5 करोड़ रुपए की लागत से लगने वाले 2 ऑक्सीजन प्लांट का काम भी शुरू हो गया है. यहां लगने वाले 2 ऑक्सीजन प्लांटों से लगभग 900 लीटर प्रति घंटा ऑक्सीजन उपलब्ध होगी. इसमें गरीब से लेकर मध्यम वर्ग के लोगों के लिए इलाज के लिए सुविधा रहेगी. साथ ही कोविड केयर सेंटर में मरीजों को भोजन- पानी के साथ हल्दी वाला दूध और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए काढ़ा भी दिया जाएगा. यह सारा इंतजाम कोविड केयर सेंटर के अंदर ही किया जाएगा. कोविड केयर सेंटर को देखते हुए आईटी पार्क चौराहा से यातायात भी डायवर्ट किया गया है.

28 अप्रैल से शुरू होंगे वयस्कों के कोरोना वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन, जानें कैसे और कहां करें

इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने यह भी बताया कि कोविड केयर सेंटर बनकर पूरी तरह तैयार है. गुरुवार को ही इससे संबंधित सूची बुलवा ली गई. जल्द ही इसे आम जनता के लिए शुरू कर दिया जाएगा, इसमें वहीं मरीज भर्ती होंगे जिनमें कोरोना के मामूली लक्षण है और उनके परिवार में आइसोलेशन की व्यवस्था नहीं है. साथ ही उनके कारण संक्रमण भी अधिक नहीं फैलेगा

कोविड राज्य सलाहकार समिति के सदस्य निशांत खरे ने बताया कि शुरुआती चरण में चार ब्लॉक से शुरुआत की जा रही है, कुछ ब्लॉक में ऑक्सीजनरेटर मशीन भी रखी गई है ताकि मरीज को आवश्यकता पड़ने पर ऑक्सीजन भी दी जा सके. यदि किसी मरीज की सेहत बिगड़ती है तो उसे महज 30 मिनट के अंदर हॉस्पिटल में शिफ्ट करने का प्रबंध भी किया गया है. वहीं नोडल अधिकारी अमित मालाकर ने बताया कि भर्ती मरीजों को मेडिकेशन के साथ मेडिटेशन भी दिया जाएगा. उन्हें सुबह के वक़्त योगा और प्रणायाम करवाने पर जोर दिया जाएगा. मरीजों को चिकित्सीय सलाह के अनुसार पांच वक़्त के भोजन के अतिरिक्त हल्दी युक्त दूध और काढ़ा दिया जाएगा ताकि उनकी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ सके.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें