HC के अल्टीमेटम के बाद काम पर नहीं लौटे जूनियर डॉक्टर, 476 ने दिया इस्तीफा

Smart News Team, Last updated: Fri, 4th Jun 2021, 6:33 PM IST
  • इंदौर एमजीएमएमसी मेडिकल कॉलेज के 476 जूनियर डॉक्टरों ने इस्तीफा दिया. मध्य प्रदेश हाईकोर्ट ने 24 घंटे के अंदर काम पर लौटने का अल्टीमेटम दिया था.
इंदौर में जूनियर डॉक्टर्स ने दिया सामूहिक इस्तीफा

इंदौर के एमजीएमएमसी मेडिकल कॉलेज के जूनियर डॉक्टर्स ने चार दिन के हड़ताल के बाद सामूहिक इस्तीफा दिया है. मध्यप्रदेश हाई कोर्ट ने डॉक्टरों की मांग को बेबुनियादी बताते हुए 24 घंटे में काम पर लौटने का आदेश दिया था. जिसके बाद 24 घंटे के अंदर 476 जूनियर डॉक्टरों ने सामूहिक तौर पर अपना इस्तीफा दे दिया. 

एमजीएमएमसी मेडिकल कॉलेज के डीन ने बताया कि 476 जूनियर डॉक्टरों ने सामूहिक रूप से इस्तीफा दिया है उच्च अधिकारियों को सौंप दिया गया है. आगे उन्होंने कहा कि सभी डॉक्टर्स अदालत का सम्मान करते हैं उन्हें बस राज्य की सरकार से शिकायत है. सरकार ने जूनियर डॉक्टर्स को निराश किया है. 

इंदौर में जमीन विवाद का घमासान, दो भाईयों को मौत के घाट उतारा, घटना में मां घायल

बता दें कि सभी जूनियर डॉक्टर्स पिछले चार दिनों से हड़ताल पर थे क्योंकि राज्य की सरकार उनकी मांगे पूरी करने में असमर्थ रही. इसके बाद जिस तरह से मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने डॉक्टर्स को 24 घंटे का अल्टीमेटम देकर काम पर लौटने को कहा यह उन्हें मंजूर नहीं था.

कोरोना के समय में जिस तरह से डॉक्टरों ने अपना फर्ज निभाया है यह काबिले तारीफ है. इसके बावजूद कुछ ऐसी घटनाएं सामने आई हैं जिससे सुरक्षा के लिए डॉक्टरों ने अपनी मांग उठाई है. 

बच्ची को जन्में कुछ घंटे नहीं हुए मां ने झाड़ियों में फेंका, ऐसे मिली नई जिंदगी

सभी जूनियर डॉक्टर्स की मांग है कि जितने भी पीजी के छात्र हैं उनके काम के लिए जो उन्हें स्टाइपेन दिया जाता है वह 20 प्रतिशत तक बढ़ाया जाए हर साल 6 प्रतिशत तक इनके सैलेरी में बढ़ोत्तरी की जाए. 

इनकी अगली मांग है कि सभी डॉक्टरों के परिवार वालों को कोरोना के इलाज के लिए अस्पताल में बेड का आरक्षण दिया जाए. वहीं हर अस्पताल के बाहर पुलिस की चौंकी लगाई जाए ताकि सबी डॉक्टरों को सुरक्षा मिल सके.  

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें