इंदौर: दुर्गा पूजा में रख सकेंगे 6 फीट ऊंची प्रतिमा, रामलीला और रावण दहन भी होगा

Smart News Team, Last updated: 04/10/2020 09:44 PM IST
  • मध्य प्रदेश सरकार ने 15 दिनों के भीतर बदला अपना फैसला, 30 फ़ीट चौड़े व 45 फीट लंबे पंडाल लगाने की मिली अनुमति मध्य प्रदेश सरकार ने गरबा आयोजन और चल समारोह पर प्रतिबंध लगा दिया है.
प्रतीकात्मक तस्वीर

इंदौर। सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन के अनुसार मध्य प्रदेश सरकार ने श्रद्धालुओं को दुर्गा पूजा मनाए जाने की अनुमति प्रदान कर दी है. इंदौर में मूर्तिकार प्रतिमाओं को अंतिम स्वरूप देने में जुटे हुए हैं. इससे पहले मध्य प्रदेश सरकार ने दुर्गा पूजा मनाए जाने पर प्रतिबंध लगाया था लेकिन अनलॉक-5 के तहत अब श्रद्धालु मां दुर्गा की प्रतिमा स्थापित कर सकेंगे.

साथ ही सरकार ने रामलीला आयोजित किए जाने की भी अनुमति प्रदान की है.

रामलीला के अंतिम दिन दशहरा पर रावण पुतला भी दहन किया जाएगा. इसको लेकर सरकार ने गाइडलाइन जारी कर दी है. यह श्रद्धालुओं के लिए बेहद अच्छी खबर है. अब श्रद्धालु धूमधाम से दशहरा मना सकेंगे.

कोरोना काल में प्रदेश में 17 अक्टूबर से शुरू हो रहा नवरात्र उत्सव अब धूमधाम से मनाया जा सकेगा.

राज्य सरकार ने शनिवार को 15 दिन पहले दिया अपना वह आदेश वापस ले लिया है, जिसके तहत 6 फीट से कम ऊंची दुर्गा प्रतिमाएं रखने और छोटे पंडाल लगाने की अनुमति दी गई थी.

नए आदेश के तहत श्रद्धालु कर सकेंगे यह काम

नए आदेश में सरकार ने कहा है कि अब छह फीट से भी ऊंची प्रतिमाएं रख सकेंगे. दुर्गा पूजा के दौरान प्रतिमा की ऊंचाई पर नहीं कोई प्रतिबंध अब नहीं रहेगा. श्रद्धालु मनचाही ऊंची प्रतिमा स्थापित कर सकते हैं. पंडाल भी 30 गुणा 45 फीट तक होंगे. पहले यह सिर्फ 10 गुणा 10 आकार में रखने के निर्देश थे.

इसके अलावा, रामलीला और रावण दहन का आयोजन भी किया जा सकेगा. हालांकि गरबा आयोजन और चल समारोहों पर पूर्व में जारी रोक बरकरार रहेगी. सरकार ने यह फैसला तमाम हिंदू संगठनों और दुर्गा उत्सव समितियों की नाराजगी के चलते लिया है. इंदौर में 6 फीट तक की प्रतिमाओं के करीब 800 ऑर्डर, वो भी अभी अधूरे पड़े है.

इंदौर - अनियंत्रित होकर नदी में जा गिरी बाइक, एक युवक की मिली लाश

प्रतिमा बनाने को लेकर असमंजस में थे मूर्तिकार

नवरात्र 17 अक्टूबर से शुरू हो रहे हैं. सरकार ने 14 दिन पहले 6 फीट से बड़ी दुर्गा प्रतिमाएं बनाने का ऑर्डर देकर असमंजस की स्थिति बना दी है. इंदौर में मूर्तिकार कल्याण संघ के राकेश प्रजापति ने बताया कि शहर में करीब 40 से 50 कारखानों में दुर्गा प्रतिमाएं बन रही हैं. 18 सितंबर को जब 6 फीट तक की प्रतिमाएं बनाने का आदेश आया, तब तक 8 से 10 फीट तक ऊंची 150 से 200 प्रतिमाएं बन रही थीं. आदेश आते ही इन्हें अधूरा ही छोड़ दिया गया. हर साल शहर में 1200 से ज्यादा प्रतिमाएं स्थापित होती हैं, लेकिन इस बार सिर्फ 700 से 800 ऑर्डर ही मिल सके.

ऊंची मूर्तियों का आर्डर पूरा करना बेहद मुश्किल

मूर्तिकारों द्वारा 8 से 10 फीट ऊंची प्रतिमा तैयार की जा रही थी लेकिन 15 दिन पहले सरकार द्वारा जारी की गई गाइडलाइन के चलते मजबूरन उन आर्डर को रोकना पड़ा. सरकार ने 6 फीट से ऊंची प्रतिमा बनाए जाने पर प्रतिबंध लगा दिया था लेकिन अनलॉक- 5 के बाद ऊंची प्रतिमा बनाने की छूट दे दी गई. ऐसे में मात्र 13 दिन ही दुर्गा पूजा में बचे हुए हैं जिसमें आर्डर पूरा करना बेहद मुश्किल लग रहा है.

बड़ी मूर्तियों के ऑर्डर अधूरे पड़े हैं. अभी 17 अक्टूबर के पहले इन्हें पूरा करना ही चुनौतीपूर्ण है, क्योंकि इस बार लॉकडाउन के चलते बंगाल से मूर्तिकार नहीं आ सके. इनमें वो मजदूर भी शामिल रहते हैं, जो पांच से छह माह यहीं रहकर मूर्तिकारों का सहयोग करते हैं. यदि अब 8 से 10 फीट ऊंची प्रतिमाओं के ऑर्डर आते हैं तो उन्हें तय समय में पूरा कर पाना बहुत मुश्किल होगा.

जहां सोशल डिस्टेंसिंग की व्यवस्था नहीं, वहां झांकियां भी नहीं : मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रतिमा विसर्जन के लिए भी अधिकतम 10 लोग जा सकेंगे. रामलीला व रावण दहन आयोजनों में सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क का उपयोग अनिवार्य होगा. जहां सोशल डिस्टेंसिंग के उल्लंघन की संभावना बनेगी, वहां झांकियां नहीं लगा सकेंगे. उन्होंने लोगों से अपील की है कि झांकियां खुली-खुली बनाएं. गुफा, सुरंग या पूरी तरह बंद झांकियां न बनाएं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें