पेट्रोल-डीजल में नकली तेल मिलाकर 4 सालों से चल रहा था धंधा, दो गिरफ्तार, 5 टैंक जब्त

Somya Sri, Last updated: Fri, 15th Oct 2021, 10:54 AM IST
  • इंदौर में नकली पेट्रोल डीजल बनाने के लिए मुंबई और गुजरात से केमिकल मंगाए जाते थे. जिसे पेट्रोल डीजल के टैंकों में मिलाकर बेचा जाता था. केमिकल से बनाये जानें वाले पेट्रोल डीजल बिल्कुल असली पेट्रोल डीजल जैसे लगते हैं. करीब 4 सालों से चल रहे इस धंधे में पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. पेट्रोल पंप मालिक और मैनेजर फरार है. पुलिस इन्हें पकड़ने के लिए दबिश दे रही है.
पेट्रोल पंप (प्रतिकात्मक फोटो)

इंदौर: इंदौर से सटे किशनगंज में पुलिस ने ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है जो पेट्रोल डीजल में नकली तेल मिलाकर बेचा करते थे. करीब 4 सालों से चल रहे इस धंधे में पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. जबकि नकली तेल से भरे 5 टैंक जब्त किए गए हैं. बताया जा रहा है कि यह नकली पेट्रोल डीजल बनाने के लिए मुंबई और गुजरात से केमिकल मंगाए जाते थे. जिसे पेट्रोल डीजल के टैंकों में मिलाकर बेचा जाता था. हैरान कर देने वाली बात यह है कि केमिकल से बनाये जानें वाले पेट्रोल डीजल बिल्कुल असली पेट्रोल डीजल जैसे लगते हैं.

ऐसे बनता था नकली तेल

मिली जानकारी के मुताबिक इंदौर से सटे किशनगंज के महू रोड स्थित एमपी मुंबई ऑटो पेट्रोल डीजल पंप पर गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस ने छापेमारी की. जहां ड्राइवर सुरेश कुशवाहा से पूछताछ में सारी बात सामने आ गई. उसने बताया कि मुंबई और गुजरात कीटनाशक बनाने के नाम पर फ्यूल ऑयल, मिक्स्ड हैकिजन, सी-09, पैंटन और रबड़ प्रोसेस केमिकल मंगाए जाते हैं. इसके बाद इन सभी को मिक्सर मशीन में मिलाया जाता है. पूछताछ में पता चला कि यह नकली तेल भी पेट्रोल-डीजल जैसे असली दिखते हैं.

इंदौर पुलिस की लापरवाही, मेडिकल करवाने अस्पताल लाया गया डकैत कस्टडी से भागा

मालिक और मैनेजर फरार

मिली जानकारी के मुताबिक टैंकर ड्राइवर सुरेश कुशवाहा और शिवम इंडस्ट्रीज के मैनेजर चंद्रप्रकाश पांडे को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है. हालांकि शिवम इंडस्ट्रीज पीथमपुर और पेट्रोल पंप मालिक विजय कुमार मूंदड़ा और एमपी मुंबई ऑटो पेट्रोल डीजल पंप का मैनेजर राकेश अग्रवाल फरार है. पुलिस इन्हें पकड़ने के लिए दबिश दे रही है. वहीं पुलिस का कहना है कि इससे पेट्रोल पंप मालिक को करोड़ो फायदा पहुंचता था. हालांकि नकली तेल बनाने का लागत अभी स्पष्ट नहीं हो पाया है. फिलहाल पुलिस को अंदेशा है कि ऐसा धंधा कुछ और पेट्रोल पंप पर भी चल रहा है. वहीं शुरुआती जांच में इंडस्ट्री के मालिक के पास करीब 13 से 14 पेट्रोल पंप होने की जानकारी मिली है. ये सभी भारत पैट्रोलियम से ये एजेंसीज ली गयी है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें