इंदौर: कंटेनमेंट जोन को लेकर बढ़ा विवाद, इलाकों में नहीं है कोई अतिरिक्त पाबंदी

Smart News Team, Last updated: 01/12/2020 11:04 PM IST
  • इंदौर: कोरोनावायरस का कहर लगातार देश में फैलता जा रहा है. वहीं, इंदौर शहर में कोरोना पर काबू पाने के लिए कंटेनमेंट जोन बनाए जा रहे हैं. हालांकि, इसको लेकर अब एक नया विवाद पैदा हो गया है. 
इंदौर में फैल रहा कोरोना का कहर

इंदौर: कोरोनावायरस का कहर लगातार देश में फैलता जा रहा है. वहीं, इंदौर शहर में कोरोना पर काबू पाने के लिए कंटेनमेंट जोन बनाए जा रहे हैं. हालांकि, इसको लेकर अब एक नया विवाद पैदा हो गया है. दरअसल, मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक जिन जगहों को कंटेनमेंट जोन बनाया गया है, वहां पर किसी भी तरह की कोई अलग से पाबंदी नहीं लगी हुई है. बता दें, शहर के सुखलिया में सबसे ज्यादा 866 मरीज मिले हैं, इसके बाद सुदामा नगर में 719, विजयनगर में 674 और खजराना में 574 मरीज मिल चुके हैं, लेकिन इन क्षेत्रों में कंटेनमेंट नहीं बनाए गए हैं.

शहर के जिन इलाकों में कंटेनमेंट जोन बनाए हैं, उनमें शामिल उषानगर सबसे ज्यादा संक्रमित मरीजों की सूची में 25वें नंबर पर, रेसकोर्स रोड 36वें, साउथ तुकोगंज 20वें, खातीवाला टैंक 13वें और जावरा कंपाउंड 119वें नंबर पर है. इस बारे में प्रशासन का तर्क है कंटेनमेंट लोगों की सतर्कता के लिए बनाए गए हैं, क्योंकि यहां एकदम से एक्टिव मरीज अधिक सामने आए हैं. जहां भी पास-पास में एकसाथ अधिक पॉजिटिव मिलेंगे, वहां कंटेनमेंट बनाए जाएंगे.

इंदौर नगर निगम का बदमाश रघु के घर पर चला बुलडोजर,महिलाएं बोलीं-यह मकान उसका नहीं

कोरोना मरीजों की सोमवार को आई लिस्ट में सुदामानगर के ए सेक्टर में एक जगह से पांच पॉजिटिव मिले हैं. राजेंद्र नगर के एक अपार्टमेंट में चार मरीज मिले हैं. जैन कॉलोनी नेमीनगर में भी चार मरीज मिले. इसी तरह शालीमार पाम, बंगाली चौराहे की एक मल्टी व अन्य कई जगहों से भी एक साथ तीन-तीन मरीज मिले हैं. सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जड़िया ने बताया कि 1600 बेड खाली हैं. बेड की कोई समस्या नहीं है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें