इंटरनेट से सीखकर नोट छापने की मशीन लगाई, लोकल मार्केट में ऐसे चली नकली करेंसी

Smart News Team, Last updated: 11/06/2021 07:51 AM IST
  • मध्य प्रदेश में एक युवक ने इंटरनेट से नोट छापने की ट्रिक सीख ली और फिर घर में मशीन लगाकर नकली नोट छापने लगा. लाखों रुपए कमाने के लालच में युवक ने लोकल मार्केट, सब्जी मंडी से लेकर हर जगह नकली करेंसी ऐसे चला डाली. 
इंदौर में क्राइम ब्रांच की टीम ने युवक के पास से पकड़े लाखों रुपए के नकली नोट.( सांकेतिक फोटो )

इंदौर. बाजार में नकली करेंसी का सर्कुलेशन एक बार फिर तेज होने लगा है. मध्य प्रदेश में तो युवक ने घर में ही नोट छापने की मशीन लगा ली. युवक ने पहले इंटरनेट से करेंसी छापने की ट्रिक सीखी. ट्रिक सीखने के बाद 100,200, 500 और 2 हजार के नोट छापकर लोकल मार्केट और सब्जी मंडी में चला दिए. इंदौर के बाजारों में हजारों के नकली नोट सर्कुलेट हो गए. नकली करेंसी के चक्कर में कई आम लोग इसका शिकार बन बैठे.

इंदौर में क्राइम ब्रांच की टीम को एक मुखबिर से सूचना मिली थी कि एक युवक सब्जी मंडी में बड़ी मात्रा में नकली नोट चला रहा है. सूचना पर क्राइम ब्रांच ने सब्जी मंडी में घेराबंदी करके आरोपी को पकड़ लिया. आरोपी का नाम राजकुमार तायडे बताया जा रहा है. पूछताछ में क्राइम ब्रांच की टीम को पता चला है कि युवक पिछले दो महीने से अपने ही घर में नोट छाप रहा था. युवक ने यह भी स्वीकार किया है कि अब तक वह करीब 20 हजार के नोट मार्किट में चला चुका है.

इंदौर के 4 प्राइवेट अस्पतालों में कोरोना वैक्सीनेशन चालू, जानें कितनी ले रहे फीस

डीआईजी इंदौर, मनीष कपूरिया ने बताया कि आरोपी इंटरनेट के जरिए नोट छापने और बाजार में चलाने की ट्रिक सीखता था. उसने घर में नोट छापे और नकली नोट को चलाने के लिए बाजार में ठेले वाले को शिकार बनाया. आरोपी के घर छापेमारी में पुलिस को नोट छापने का प्रिंटर, हाई क्वालिटी का पेपर, ग्लास कटर, लैपटॉप और कई तरह की सामग्री प्राप्त हुई है. जिसका प्रयोग नोट छापने के लिए किया जाता था. पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम अब इस बात का पता लगाने की कोशिश में जुट गई है कि आरोपी को पुराना आपराधिक रिकार्ड तो नहीं है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें