इंदौर: स्ट्रेचर पर पड़ा-पड़ा शव बन गया कंकाल! इस कारण नहीं हो पाया दाह संस्कार

Smart News Team, Last updated: Thu, 17th Sep 2020, 9:38 AM IST
  • इंदौर. एमवायएच अस्पताल की मोर्चरी रूम में रखा शव था 10 दिन पुराना. अज्ञात शव होने के चलते किसी ने नहीं उठाई शव को सुरक्षित रखने की जहमत. बॉडी कूलर की व्यवस्था नहीं होने से शव को पॉलिथीन में लपेट कर शव को छोड़ दिया गया
प्रतीकात्मक तस्वीर 

इंदौर। इंदौर के एमवायएच अस्पताल में एक अज्ञात शव को स्ट्रेचर पर ही 10 दिनों से छोड़ दिया गया जिसके चलते शव कंकाल के रूप में परिवर्तित हो गया. अज्ञात शव होने के चलते किसी भी कर्मचारी ने शव को सुरक्षित रखने की जहमत नहीं उठाई जिसके चलते 10 दिनों में लाश सड़कर कंकाल में तब्दील हो गई.

गौरतलब है कि प्रदेश के सबसे बड़े महाराजा यशवंत राव होल्कर अस्पताल में मानवता को शर्मसार करने वाला मामला प्रकाश में आया है, जहां अस्पताल के पोस्टमार्टम भवन में एक अज्ञात व्यक्ति का शव 10 दिनों से स्ट्रेचर पर पड़े पड़े सड़ गया.

शव में कीड़े तक पड़ गए जिससे शव कंकाल के रूप में तब्दील हो गया. पूरे मामले की जांच पड़ताल किए जाने के बाद आनन-फानन में मर्चरी भवन के इंचार्ज को नोटिस थमा कर मामले को रफा-दफा कर दिया गया. 

इंदौर: कोचिंग संचालक की गंदी करतूत, जानकर रह जाएंगे दंग

परिजनों के इंतजार में 3 दिन तक अज्ञात शव को रखा जाता है सुरक्षित

दरअसल अज्ञात शव की शिनाख्त नहीं होने पर 3 दिन तक परिजनों के इंतजार में उसे लावारिस मान कर रखा जाता है. 3 दिन बीत जाने के बाद किसी सामाजिक संस्था या एनजीओ द्वारा शव को पुलिस की देखरेख में दफना कर अंतिम संस्कार करवा दिया जाता है.

कर्मचारियों की लापरवाही के चलते अज्ञात शव बना कंकाल

विगत 10 दिनों में एक अज्ञात शव मोर्चरी भवन में पड़ा हुआ था. किसी भी कर्मचारी ने इस पर ध्यान नहीं दिया जिसके बाद शव में कीड़े लग गए और वह सड़कर कंकाल बन गया. सूत्रों की माने तो उक्त शव को लावारिस मानकर मोर्चरी में रखवा दिया गया. मोर्चरी में शव रखते समय भी इसकी कोई पर्ची नहीं बनाई गई.

स्ट्रेचर पर पन्नी में लपेटकर छोड़ दी गई लाश

मोर्चरी भवन में बॉडी कूलर की व्यवस्था नहीं होने के चलते शव को मर्चरी हाल में स्ट्रेचर पर ही पन्नी में लपेट कर छोड़ दिया गया, जिसके बाद शव सड़कर कंकाल में तब्दील हो गया. किसी भी कर्मचारी ने शव को सुरक्षित रखने का बीड़ा नहीं उठाया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें