इंदौर: रबी की फसल के लिए विद्युत विभाग की तैयारी, फसले नही होंगी बर्बाद

Smart News Team, Last updated: 16/09/2020 11:47 PM IST
  • इंदौर. विद्युत वितरण कंपनी में 16000 ट्रांसफार्मरों कास्ट ऑफ जमा किया. 25 केवी, 63 केवी और 100 केवी क्षमता वाले 16000 ट्रांसफार्मर स्टाक में मौजूद. हर डिपो में 300 से 600 तक ट्रांसफार्मर हमेशा रहेंगे मौजूद
प्रतीकात्मक तस्वीर 

इंदौर। विद्युत विभाग ने इस बार रबी की फसल की बुवाई होने से पहले ही अपनी तैयारियां पूरी कर ली है. विद्युत विभाग ने सिंचाई के लिए 16000 ट्रांसफार्मर स्टॉक में जमा कर रखे हैं. ताकि किसानों के फसल बर्बाद ना हो सके. ट्यूबवेल से सिंचाई करने वाले किसानों को अब इसका सीधा लाभ मिल सकेगा. ट्रांसफार्मर से संचालित होने वाले ट्यूबवेल से किसान बराबर सिंचाई कर सकेंगे.

विद्युत विभाग ने सभी प्रखंडों के लिए अलग-अलग क्षमता वाले ट्रांसफार्मर अपने स्टाक में रख लिए हैं. आपको बता दें कि बढ़ती हुई बिजली की मांग को देखते हुए ग्रामीण क्षेत्र में विद्युत वितरण कंपनी ने तत्काल ट्रांसफार्मर बदलने के लिए अपने स्टॉक में 16000 ट्रांसफार्मर जमा कर लिए हैं.

इन ट्रांसफार्मरों के लिए शहर में अलग-अलग डिपो भी बनाए गए हैं. शहर में कुल 15 डिपो बनाए गए हैं जो अलग-अलग क्षेत्रों के लिए बने हैं. बिजली कंपनी के एमडी अमित कुमार ने बताया कि रबी सीजन के लिए लगभग 12 लाख किसान विद्युत कनेक्शन लेते हैं. इस दौरान ट्रांसफार्मर में खराबी आने के चलते कई दिनों तक उनकी फसल की सिंचाई नहीं हो पाती है जिसके चलते उनकी रबी की फसल बर्बाद हो जाती है.

इंदौर: कोचिंग संचालक की गंदी करतूत, जानकर रह जाएंगे दंग

इस वजह से विद्युत विभाग ने रबी फसल की बुवाई से पहले ही इसकी तैयारियां पूरी कर ली हैं.

विभाग द्वारा 25 केवी, 63 केवी और 100 केवी की क्षमता वाले 16000 ट्रांसफार्मर में स्टॉक में रख लिए हैं. स्थाई डिपो में 11000 ट्रांसफार्मर रहेगा जिसमें इंदौर, उज्जैन, रतलाम, मंदसौर, धार, बड़वाह डिपो शामिल हैं. रबी फसल के लिए अस्थाई डिपो भी बनाए गए हैं जिसमें देवास, शाजापुर, मनासा, बुरहानपुर, खंडवा, बड़वानी, झाबुआ और अलीराजपुर शामिल है. 

इन डिपो में हर समय 300 से 600 तक ट्रांसफर उपलब्ध रहेंगे. यह ट्रांसफार्मर अलग-अलग क्षमता वाले होंगे. ट्रांसफार्मर खराब होने की स्थिति में इन डिपो स्टेशनों से ट्रांसफार्मरों की सप्लाई की जाएगी.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें