इंदौर: लॉकडाउन में वेतन नहीं देने पर कर्मचारी ने दोस्त के साथ चुराए 26 कम्प्यूटर

Smart News Team, Last updated: 05/09/2020 08:04 AM IST
  • मैनेजमेंट द्वारा लॉकडाउन में वेतन नहीं दिए जाने से परेशान था कर्मचारी चोरी के माल के साथ पुलिस ने आरोपियों को किया गिरफ्तार दिन में ही कार में रख चुरा ले गए कम्प्यूटर, ताकी कोई शक न करे
प्रतीकात्मक तस्वीर

इंदौर। लॉकडाउन में विद्यालय प्रबंधन द्वारा वेतन नहीं दिए जाने से नाराज हुए कर्मचारी ने दोस्त के साथ मिलकर 26 कम्प्यूटर चुरा लिए. चोरी के कम्प्यूटर को अपने एक परिचित के यहां बेच भी दिया.

चोरी की जानकारी होने पर विद्यालय प्रबंधन ने इसकी सूचना स्थानीय थाने में दी.

इसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया.

दरअसल गांधीनगर थाना क्षेत्र के सिद्धार्थ नगर कॉलोनी स्थित स्कूल वर्ल्ड पीस में ऋतुराज पिछले कई वर्षों से कर्मचारी के रूप में काम करता था.

लॉकडाउन के दौरान स्कूल बंद होने के चलते विद्यालय प्रबंधन द्वारा कर्मचारियों का वेतन रोक दिया गया. इस दौरान ऋतुराज की आर्थिक स्थिति खराब हो गई.

परिवार चलाना मुश्किल हो गया. कर्ज के बोझ के नीचे ऋतुराज दबता चला गया. इसके बाद उसने विद्यालय प्रबंधन से वेतन दिए जाने की मांग की.

जिस पर विद्यालय प्रबंधन ने वेतन दिए जाने से मना कर दिया. इस बात को लेकर विद्यालय प्रबंधन और ऋतुराज के बीच काफी विवाद हुआ.

जिसके चलते ऋतुराज को विद्यालय से निकाल दिया गया. इस बात से खुन्नस खाए ऋतुराज ने विद्यालय प्रबंधन को सबक सिखाने की योजना तैयार की.

उसने अपने तीन साथियों के साथ मिलकर विद्यालय के ऑफिस में रखे कंप्यूटर की चोरी किए जाने का प्लान बनाया. जिसमें उसके साथियों ने उसकी मदद की.

पुलिस ने किया खुलासा

गांधी नगर टीआई अनिल सिंह यादव के अनुसार आरोपी ऋतुराज कदम, रजत शर्मा और शुभव्रत गर्ग को चोरी के आरोप में गिरफ्तार कर जेल भेज दिया.

आऱोपियों ने सिध्दार्थ नगर स्थित स्कूल वर्ड पीस में चोरी की थी. वहां के प्रबंधन से जुड़े अतुल खुड़े ने थाने में चोरी की शिकायत की थी.

तहरीर में कुछ बदमाशों द्वारा ऑफिस के दरवाजे का ताला तोड़कर कम्प्यूटर सेट चोरी किए जाने की सूचना दी गयी थी. इस पर पुलिस ने जांच की.

सीसीटीवी में आरोपी घटना को अंजाम देते हुए कैद हो गए. पुलिस ने ऋतुराज को गिरफ्तार कर लिया. उसने अपने साथी रजत और शुभव्रत का नाम कबूला. ऋतुराज ने पुलिस को बताया कि वह यहां का कर्मचारी है.

सैलरी नहीं दिए जाने के चलते उसने नौकरी छोड़ दी. फिर उसने स्कूल में चोरी की योजना बनाई. उसने सोचा कि रात में जाएगा तो पकड़ा जाएगा इसलिए वह दिन में दोस्त रजत को लेकर स्कूल गया. उसने कार से चोरी की.

फिर शुभव्रत गर्ग को माल बेच दिया. इसलिए पुलिस ने उसे भी आरोपी बनाया है.

 

 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें