पूर्व शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी पर FIR दर्ज होने के बाद निगम कर्मचारियों का टूटा हड़ताल

Somya Sri, Last updated: Sat, 18th Sep 2021, 9:37 AM IST
  • डेंगू मलेरिया की जागरूकता अभियान को लेकर दो दिन पहले हुए विवाद पर निगम कर्मचारियों ने अनिश्चितकालीन हड़ताल की चेतावनी दी थी. वे काम बंद कर राजेन्द्र नगर थाने पर जमा हो गए थे. उनकी मांग थी कि प्रदेश के पूर्व शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी पर मुकदमा दर्ज हो.
इंदौर नगर निगम (फाइल फोटो)

इंदौर: आखिरकार इंदौर नगर निगम कर्मचारियों का हड़ताल टूट गया है. वे काम पर लौट आए हैं. डेंगू मलेरिया की जागरूकता अभियान को लेकर दो दिन पहले हुए विवाद पर निगम कर्मचारियों ने अनिश्चितकालीन हड़ताल की चेतावनी दी थी. वे काम बंद कर राजेन्द्र नगर थाने पर जमा हो गए थे. उनकी मांग थी कि प्रदेश के पूर्व शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी पर मुकदमा दर्ज हो. उनकी मांग पूरी होने के बाद निगम करमचारी काम पर वापस लौट आए हैं.

गौरतलब है कि 2 दिन पहले इंदौर के दुर्गा नगर में निगम के स्वास्थ्य अधिकारी डॉक्टर उत्तम यादव और प्रदेश के पूर्व शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी के बीच विवाद हो गया था. डेंगू मलेरिया को लेकर चल रहे जागरूकता अभियान पर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी डॉ उत्तम यादव ने पूर्व शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी पर अभद्रता का आरोप लगाया था. जिसके बाद निगम कर्मचारियों ने संयुक्त रूप से जीतू पटवारी पर मुकदमा दर्ज करने की मांग की थी. उन्होंने कहा था कि अगर मुकदमा दर्ज नहीं होगा तो वह काम पर नहीं लौटेंगे. हालांकि जीतू पटवारी पर मुकदमा दर्ज हो गया है और निगम कर्मचारी वापस से काम पर लौट आए हैं.

आठ गुना तक महंगा हो जाएगा 15 साल पुरानी गाड़ियों का प्री-रजिस्ट्रेशन और फिटनेस, 1 अक्टूबर से बढ़ने जा रही फीस

बता दें कि नगर निगम कर्मचारियों की हड़ताल की वजह से शहर में सफाई व्यवस्था प्रभावित हुई. जिस डेंगू मलेरिया के लिए जागरूकता अभियान चलाया जा रहा था. साफ सफाई पर जोर दिया जा रहा था. वही इस हड़ताल के दौरान नदारद रहा. इस दौरान लोगों को भी काफी मुश्किल झेलनी पड़ी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें