इंदौर के GACC में सिर्फ दोनों डोज वैक्सीन लेने वालों को ही मिलेगी एंट्री, ये हैं शर्तें

Anurag Gupta1, Last updated: Wed, 8th Dec 2021, 3:12 PM IST
  • अटल बिहारी वाजपेयी शासकीय कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय (जीएसीसी) में दोनों डोज का प्रमाण पत्र दिखाकर ही प्रवेश मिलेगा. बाहर से आए व्यक्ति को आरटीपीसीआर रिपोर्ट दिखानी होगी. बिना मास्क विद्यालय में प्रवेश नहीं मिलेगा.
जीएसीसी में क्लास करते छात्र (फाइल फोटो)

इंदौर. देश में लोगों को तीसरी लहर की चिंता सताने लगी है. लंबे समय बाद देश में चरणबध्द तरीके से स्कूल खुलें हैं. ऐसे में प्रदेश के अटल बिहारी वाजपेयी शासकीय कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय (जीएसीसी) ने कोरोना महामारी की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए कॉलेज के विद्यार्थियों को दोनों डोज लगाने के हिदायत दी है. कॉलेज ने अनिवार्य रूप से वैक्सीन के दोनों डोज के प्रमाण पत्र जमा कराने के लिए कहा है. दोनों डोज न लेने वाले छात्र को क्लास में शामिल नहीं किया जाएगा. संस्थान ने गूगल फार्म जारी कर विद्यार्थियों को इसमें वैक्सीन की जानकारी देने के लिए कहा है.

प्रशासन ने बताया कि विभिन्न कोर्सेस में करीब पांच हजार विद्यार्थी है. ऐसे में विद्यार्थियों की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ नहीं कर सकते. सभी विद्यार्थियों को वैक्सीन लगवाने को कहा गया है साथ ही प्रमाण दिखाने को भी कहा गया है. इस तरह की कोशिश शासकीय होलकर साइंस कालेज भी विद्यार्थियों के दूसरे डोज के प्रमाण पत्र चेक कर रहा है. जिन छात्रों ने अभी वैक्सीन नहीं ली है उन्हें कॉलेज आने को साफ तौर पर मना कर दिया गया है.

Video: कांग्रेस MLA जीतू पटवारी ने 'अपनी तो जैसे-तैसे' गाने पर किया जमकर डांस, वीडियो वायरल

बिना मास्क कैंपस में प्रवेश निषेध:

होलकर साइंस कालेज में भी करीब पांच हजार विद्यार्थी अध्ययन करते हैं. यहां पर हॉस्टल सुविधा होने के कारण कई विद्यार्थी इनमें रह रहे हैं. ऐसे में भीड़ न लगाने के लिए भी विद्यार्थियों को बोला गया है. बाहरी व्यक्तियों से भी परिसर में प्रवेश के समय वैक्सीन के दोनों डोज की जानकारी ली जा रही है और मास्क के बिना परिसर में प्रवेश नहीं दिया जा रहा है.

प्राचार्य अनूप कुमार ने बताया कि लंबे समय बाद कैंपस खोला गया है और कई विद्यार्थियों ने संस्थान में प्रवेश लिया है. इस स्थिति ये पता लगाना मुश्किल है कि किस छात्र को वैक्सीन लगा है किसको नहीं. इसलिए प्रमाण पत्र मांगा जा रहा है. इससे दो फायदे होंगे जागरूकता भी आएगी और 100 फीसद बच्चों को दोनों डोज लग सकेंगे.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें