सफाई में नंबर वन हुआ इंदौर तो ट्रैफिक से हुआ बेहार, अब होगा सुधार

Smart News Team, Last updated: Sat, 6th Feb 2021, 3:10 PM IST
  • इंदौर सफाई में अव्वल है तो वहीं यहां ट्रैफिक जाम की समस्या काफी बढ़ गई है. दरअसल, इंदौर में नवागत डीआईजी मनीष कपूरिया पहले दिन ही दवा बाजार के पास ट्रैफिक जाम में फंस गए. यहां तक कि नवागत डीआईजी मनीष कपूरिया भी पहले दिन ही दवा बाजार के पास ट्रैफिक जाम में फंस गए.
सफाई में नंबर वन हुआ इंदौर तो ट्रैफिक से हुआ बेहार (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मध्यप्रदेश का जिला इंदौर सफाई के मामले में नंबर वन पर है. लेकिन जहां एक तरफ इंदौर सफाई में अव्वल है तो वहीं यहां ट्रैफिक जाम की समस्या काफी बढ़ गई है. दरअसल, इंदौर में नवागत डीआईजी मनीष कपूरिया पहले दिन ही दवा बाजार के पास ट्रैफिक जाम में फंस गए. बताया जा रहा है कि वह आईजी से मिलने के लिए निकले थे, लेकिन जाम के कारण वह चौराहे पर ही काफी देर तक फंसे रहे. ऐसे में उन्होंने ट्रैफिक जाम की समस्या दूर करने की जिम्मेदारी अपने कंधों पर ले ली है.

इंदौर शहर के ट्रैफिक की हालत देख उन्होंने कहा कि अब ट्रैफिक सुधारना मेरी प्राथमिकता है. डीआईजी ने ट्रैफिक समस्या के बारे में बात करते हुए कहा कि इंदौर स्वच्छता में नंबर वन है, लेकिन ट्रैफिक में बेहाल है. लोगों से अपेक्षा है कि स्वच्छता में जितना सहयोग किया, उतना ही क्राइम रोकने में भी करें. इसके साथ ही उन्होंने ट्रैफिक से जुड़ी समस्या का भार भी अपने सिर ले लिया. बता दें कि इंदौर में लोगों को जाम की समस्या से काफी जूझना पड़ता है.

डीजीजीआई ने 674 करोड़ रुपये के जीएसटी घोटाले में 20 से अधिक ठिकानों पर मारे छापे

बताया जा रहा है कि इंदौर में स्थिति ऐसी है कि यहां 30 चौराहों पर दिन में कई बार जाम लगता है. इनमें 15 तो बीआरटीएस के हैं, जहां सिग्नल होने के बाद भी जाम से निजात नहीं मिल पा रहा है. इनमें शामिल गिने-चुने चौराहों पर ही ट्रैफिक के जवान नजर आते हैं. लेकिन उन जगहों पर भी ट्रैफिक सुधारने में जवानों द्वारा गंभीरता नहीं दिखाई जाती है. शहर में 85 बड़े तो 50 छोटे चौराहे हैं, जिनमें से केवल 112 चौराहों पर ही सिग्नल लगे हुए हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें