बरसात मे डूबा इंदौर, बढ़ेंगी मुसीबतें, मौसम विभाग ने जारी किया भारी बारिश अलर्ट

Smart News Team, Last updated: 23/08/2020 12:50 AM IST
  • इंदौर. मौसम विभाग ने इंदौर सहित एमपी के कई हिस्सों में अहले 24 घंटो में लगाया भारी बारिश का अनुमान. पिछले 24 घंटों में इंदौर के 26 सेमी तक दर्ज की गई बारिश.
बरसात मे डूबा इंदौर

इंदौर. मौसम विभाग ने रविवार को इंदौर सहित मध्यप्रदेश के कई हिस्सों में तेज गरज के साथ भारी बारिश का अनुमान लगाते हुए अलर्ट जारी किया है. 22 अगस्त दिन शनिवार को जारी मौसम विभाग के रिपोर्ट के अनुसार पिछले चौबीस घंटों के दौरान प्रदेश के पश्चिमी मध्य प्रदेश में मानसून प्रबल तथा पूर्वी मध्य प्रदेश में मानसून सक्रिय रहा वहीं सभी संभागों के जिलों में अधिकांश स्थानों पर वर्षा दर्ज की गई. पिछले दिनों में हुई बरसात में डूब रहे इंदौर शहर की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं.

इन जगहों पर हुई इतनी बारिश

मध्य प्रदेश के सीहोर में सर्वाधिक 32 सेमी तथा नसरुल्लागंज, नवीबाग, रायसेन व नरसिंहगढ़ में सबसे कम 15 सेमी तक बारिश रिकॉर्ड की गई. इसके अलावा हटपिपल्या में 27, इंदौर व गौहरगंज में 26, इछावर में 25, आष्ठा व बड़नगर में 24, खातेगांव व बदनावर में 23, भोपाल, कालापीपल व रेहटी में 21, देपालपुर, सुजालपुर, पिपरिया, बरेली व गौतमपुरा में 20, बुधनी व विदिशा में 19, होशंगाबाद व उदयनगर में 18, टोंक खुर्द में 17 तथा सोनकच्छ, बड़खेड़ी, बागली व जावर में 16 सेमी तक औसत बारिश दर्ज की गई.

यहाँ है मौसम विभाग का रेड अलर्ट

अत्यधिक भारी बारिश एवं लगभग 40 से 50 किमी प्रति घंटा की रफ्तार से तेज हवा तथा गरज व चमक के साथ बिजली गिरने की संभावना को देखते हुए मध्य-प्रदेश के खरगौन, अलीराजपुर, झाबुआ, धार व रतलाम जिले को मौसम विभाग द्वारा रेड अलर्ट पर रखा गया है.

इन जिलों में ऑरेंज व यहाँ जारी हुआ येलो अलर्ट

भारी वर्षा एवं तेज हवा व गरज के साथ बिजली चमकने या गिरने की संभावना को देखते हुए मौसम विभाग ने बुरहानपुर, बड़वानी, इंदौर, उज्जैन, देवास, शाजापुर, आगर, नीमच एवं मंदसौर जिले को ऑरेंज अलर्ट पर रखा है. वही बैतूल, हरदा, होशंगाबाद, खंडवा, राजगढ़, सीहोर, भोपाल, रायसेन व विदिशा जिले के कुछ स्थानों पर हवा के साथ बिजली चमकने या गिरने की संभावना व भारी बारिश के अनुमान को देखते हुए मौसम विभाग द्वारा इन जिलों को येलो अलर्ट पर रखा गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें