इंदौर: कॉलोनी में पहुंचने का नहीं है उचित मार्ग, तो ऐसे बनवाये सड़क

Somya Sri, Last updated: Mon, 18th Oct 2021, 11:23 AM IST
  • इंदौर में अब उन कंपनियों की खैर नहीं जिन्होंने लोगों को गुमराह कर प्लॉट और मकान तो बनवा लिए पर उन्हें कॉलोनी पहुंचने का उचित मार्ग तक नहीं दिया. इंदौर प्रशासन की ओर से ऐसे कम्पनी को शोकॉज नोटिस जारी किया जाएगा. इसके तहत कम्पनी को निर्धारित समय में नोटिस का जवाब देना होगा. जिसके बाद कॉलोनी के लिए उचित मार्ग बनाया जाएगा. मैसर्स एप्पल रियल मार्ट प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को शोकॉज नोटिस जारी किया गया है.
इंदौर: कॉलोनी में पंहुचने का नहीं है उचित मार्ग, तो ऐसे बनवाये सड़क (प्रतिकात्मक फोटो)

इंदौर: इंदौर में अब अगर कॉलोनी तक पहुंच मार्ग नहीं है तो गुमराह करके प्लॉट, मकान व कॉलोनी बनाने वाले कम्पनी को शोकॉज नोटिस जारी किया जाएगा. इसके तहत कम्पनी को निर्धारित समय में नोटिस का जवाब देना होगा. जिसके बाद कॉलोनी के लिए उचित मार्ग बनाया जाएगा. इस सिलसिले में एक प्राइवेट कंपनी को नोटिस भी जारी कर दिया गया है. इंदौर प्रशासन इस मामले में सख्त हो गया है ताकि भविष्य में ऐसी कॉलोनियों का निर्माण ना हो जहां मुख्य सड़क से कॉलोनी पहुंचने के लिए उचित मार्ग ही न हो.

दरअसल, इंदौर में अब उन कंपनियों की खैर नहीं जिन्होंने लोगों को गुमराह कर प्लॉट और मकान तो बनवा लिए पर उन्हें कॉलोनी पहुंचने का उचित मार्ग तक नहीं दिया. इंदौर प्रशासन की ओर से मैसर्स एप्पल रियल मार्ट प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को शोकॉज नोटिस जारी किया गया है. कंपनी को 5 दिन का समय दिया गया है. इस निर्धारित अवधि में कंपनी को जवाब देना है कि आखिर कॉलोनी में मुख्य सड़क तक पहुंच मार्ग क्यों नहीं बनाया गया.

बहू ने अपनी ससुराल में ही डाल दिया एक करोड़ का डाका, मायके वालों से...

बता दें कि नगर आयुक्त प्रतिभा पाटिल शांति विस्टा कॉलोनी के स्थल का निरीक्षण कर रही थी. इस दौरान उन्होंने पाया कि पहुंच मार्ग अभी तक बनाया ही नहीं गया. जबकि कागजों में 18 मीटर पहुंच मार्ग दर्शाया गया है जिसके बाद उन्होंने मैसर्स एप्पल रियल मार्ट प्राइवेट लिमिटेड कंपनी को नोटिस जारी कर दिया. नोटिस में समय अवधि में ही स्पष्टीकरण मांगा गया है कि आखिर मुख्य सड़क से कॉलोनी तक पहुंच मार्ग क्यों नहीं बनाया गया. इस संबंध में संयुक्त संचालक नगर और ग्राम निवेश विभाग जिला इंदौर को भी पत्र भेजा गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें