इंदौर: करोड़पति बनने के लालच में बन सकते हैं कंगाल, शो के विजेता बता कर हो रही ठगी

Smart News Team, Last updated: 18/09/2020 06:22 PM IST
  • अधिकारियों के मुताबिक पिछले एक हफ्ते में चार-पांच ऐसे मामले आ चुके हैं, जिसमें लॉटरी के 25 लाख रुपये देने के बदले उनसे जीएसटी, एनडीसी, सर्विस टैक्स, प्रोसेसिंग फीस व इनकम टैक्स के नाम से एडवांस रुपये मांगे जाते हैं. 
साइबर क्राइम

इंदौर: आपको करोड़पति बनाए या न बनाए, लेकिन जरा सी असावधानी कंगाल जरूर बना सकती है. केबीसी का विजेता बताकर ठगने वाले गिरोह से सावधान रहने को लेकर इंदौर क्राइम ब्रांच ने एडवाइजरी भी जारी की है.

अधिकारियों के मुताबिक पिछले एक हफ्ते में चार-पांच ऐसे मामले आ चुके हैं, जिसमें लॉटरी के 25 लाख रुपये देने के बदले उनसे जीएसटी, एनडीसी, सर्विस टैक्स, प्रोसेसिंग फीस व इनकम टैक्स के नाम से एडवांस रुपये मांगे जाते हैं. रुपये जमा करने के बाद जीती गई लॉटरी के न तो रुपये मिलते हैं और न ही ठग फोन उठाते हैं.

केबीसी लॉटरी में 25 लाख रुपये जीतने के लिए दी गई बंधाई

क्राइम ब्रांच की माने तो दीपेश जलोनिया को कुछ दिन पहले एक मैजेस आया था, जिसमें उन्हें केबीसी लॉटरी में 25 लाख रुपये जीतने के लिए बधाई दी गई. इसके कुछ देर बाद एक फोन आया. इसमें फोन करने वाले ने कस्टमर ऑफिसर राजेश कुमार दिल्ली कॉल सेंटर से वाट्सएप कंपनी से बात करना बताया और जीते गए रुपये लेने के पहले 25 लाख रुपये का जीएसटी व अन्य टैक्स भरने के लिए 15 हजार रुपये की मांग की.

रुपये जमा करने के बाद इनकम टैक्स की मांग की. इनकम टैक्स जमा करने के बाद ठगोरे ने शीघ्र ही रुपये खाते में भेजने की बात कही, लेकिन पैसा नहीं आया. साथ ही फोन भी बंद हो गया .

प्रधानमंत्री और फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन का फोटो लगा व्हाट्सएप पर आता है मैसेज

वही व्हाट्सएप पर मैसेज आता है तो उसमें आरोपित एक पोस्टर भी शेयर करते हैं, जिसमें सबसे ऊपर प्रधानमंत्री और फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन का फोटो लगा होता है. पेपर में आकाश वर्मा का नंबर दिया गया है. उसमें लॉटरी नंबर भी लिखा होता है. वाट्सएप से वाट्सएप कॉल ही करने के लिए कहा जाता है. पोस्टर में जिस आकाश वर्मा का फोटो लगा है, उसे SBI कंपनी का मैनेजर बताया जाता है.

एएसपी का यह है कहना

फोन पर पैसा मांगने वाले अनजान व्यक्तियों को राशि न दें। इस तरह के फोन आते हैं तो क्राइम ब्रांच में शिकायत करें :- राजेश दंडोतिया, एएसपी, क्राइम ब्रांच

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें