ओमिक्रॉन वैरिएंट के चलते MP के इंदौर का बैडमिंटन खिलाड़ी साउथ अफ्रीका में फंसा

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Fri, 3rd Dec 2021, 2:58 PM IST
  • मध्यप्रदेश के इंदौर जिले का एक बैडमिंटन खिलाड़ी व उसके दो अन्य साथी एक इंटरनेशनल बैडमिंटन टूर्नामेंट में पार्टिसिपेट करने के लिए साउथ अफ्रीका के बोत्सवाना गए थे. वहां ओमिक्रॉन वैरिएंट के चलते कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी से इजाफा होने के कारण फ्लाइट्स रद्द हैं और तीनो खिलाड़ी फंस गए हैं.
प्रियांश खुशवानी बैटमिंटन खेलते हुए फोटो इंस्टाग्राम के @priyanshkhushwani से

इंदौर. कोरोना के एक खतरनाक वैरिएंट ओमिक्रॉन के फैलने के डर से बंद अंतरराष्ट्रीय फ्लाइट्स ने कई भारतीयों के साथ एक इंदौर के बैडमिंटन खिलाड़ी व उनके 2 अन्य साथियों को मुश्किल में डाल दिया है. ये तीनों बैटमिंटन खिलाड़ी साउथ अफ्रीका के बोत्सवाना में एक इंटरनेशनल ओपन टूर्नामेंट खेलने गए थे मगर साउथ अफ्रीका में अचानक कोरोना की ओमिक्रॉन वैरिएंट के तेजी से संक्रमण फैलने के चलते वहां की सरकार ने देश से बाहर जाने वाली सभी कामर्शियल उड़ान को रद्द कर दिया है. इसके आलावा अरबीयन देश दोहा और दुबई ने भी अपने यहां आने वाले कामर्शियल फ्लाइट्स पर प्रतिबंध लगा दिया है. मिली जानकारी के मुताबिक बैडमिंटन खिलाड़ी अपने परिवार के बराबर संपर्क में है और अब वह किसी तरह बोत्सवाना से मध्य प्रदेश केे इंदौर जिले में स्थित अपने घर आने की फिराक में है. फिलहाल वह और उसके 2 अन्य साथी विदेशी सरजमीं पर फ्लाइट रद्द होने के कारण फंसे हुए हैं. 

इंदौर के 21 वर्षीय प्रियांश खुशवानी व उनके साथी नरेन एस अय्यर और रेवती देवस्थले अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन टूर्नामेंट में हिस्सा लेने दक्षिण अफ्रीका के बोत्सवाना गए थे. प्रियांश के पिता दिलीप खुशवानी ने कहा है कि मेरा बेटा इंटरनेशनल ओपन टूर्नामेंट में पॉर्टिसिपेट करने के लिए दक्षिण अफ्रीका के बोत्सवाना गया था. उन्होने बताया कि बैडमिंटन खिलाड़ी प्रियांश को घर वापस लाने के लिए 2 फ्लाइट की टिकट बुक कराई थी मगर 28 नवंबर को कतर एयरलाइंस ने सारी फ्लाइट्स रद्द कर दी जिसके चलते दोनों हवाईयात्रा निरस्त हो गई.

MP एग्रो के अफसर रमेशचंद्र रूपारिया के 6 ठिकानों पर EOW की छापेमारी, करोड़ की संपत्ति मिलने का अनुमान

प्रियांश ने वापस आने के लेकर दक्षिण अफ्रीका के बोत्सवाना स्थित भारतीय दूतावास जाकर मिले जिसके बाद, दूतावास ने उनके लिए सारी व्यवस्थाएं की थी. हालांकि उनके वीजा की वैलिडिटी 30 नवंबर को समाप्त हो गई थी जिले रिनुअल कराने के बाद ही वह आधिकारिक तौर पर वहां रह सकते थे. पिता  ने बताया कि उन्होंने किसी तरह केन्या के लिए पर्यटक वीजा की व्यवस्था की है और बेटे को 10 दिसंबर को वापस आने के लिए टिकट बुक भी करवाया है. सब कुछ ठीक रहा तो प्रियांश केन्या से अहमदाबाद के लिए हवाई यात्रा करेंगे. पिता ने प्रार्थना की है कि इस बार अहमदाबाद के लिए उड़ान भरने वाली फ्लाइट्स रद्द न हो.

पिता ने कहा है कि मैं सरकार से अनुरोध करता हूं कि उनके प्रियांश की वापसी के लिए आवश्यक व्यवस्था करें. बता दें कि गुरुवार को दक्षिण अफ्रीका से एक व्यक्ति एमपी के पन्ना जिले में वापस आया है जिसकी सूचना पाकर जिला प्रशासन पूरी तरह सतर्क हो गया है. दक्षिण अफ्रीका से वापस पन्ना जिला आने वाले शख्स के समस्त परिजनो का जिला प्रशासन ने RTPCR टेस्ट भी करवाया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें