इंदौर: लड़कियों पर देह व्यापार के धंधे के लिये करते थे जुल्म, SIT के हवाले जांच

Smart News Team, Last updated: 01/10/2020 02:09 PM IST
  • एजेंट भारत में सक्रिय हैं, वैसे ही बांग्लादेश में भी हैं. ये उन गरीब परिवारों पर नजर रखते हैं, जिनके यहां अधिक बच्चियां रहती हैं, फिर उनसे गलत काम कराते है.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

इंदौर । जनपद में जघन्य अपराध करने वाले गिरोह की अब एसआईटी जांच करने के लिए तैयार है. आपको बता दें कि हाई प्रोफाइल सेक्स रैकेट और मानव तस्करी की जांच के लिए अब डीआईजी ने स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) बनाई है. इसमें पूर्व क्षेत्र के एएसपी राजेश रघुवंशी, विजय नगर सीएसपी राकेश गुप्ता, एमआईजी टीआई विजय सिसौदिया और विजय नगर टीआई तहजीब काजी को रखा गया है. जो बारीकी से इसकी जांच करेंगे.

आपको बता दें कि देह व्यापार के लिए बांग्लादेश से लाई गई लड़कियों ने पुलिस को बताया कि जिस तरह के एजेंट भारत में सक्रिय हैं. वैसे ही बांग्लादेश में भी हैं. ये उन गरीब परिवारों पर नजर रखते हैं. जिनके यहां अधिक बच्चियां रहती हैं या फिर 16 से 18 साल के होते ही उनके परिजन को भारत में काम दिलाने के बहाने अच्छी कमाई का लालच देकर मनाते हैं साथ ही बॉर्डर पार कराकर एक दिन उसके पास के गांव में एजेंटों के यहां रखते है. फिर मुर्शिदाबाद लाकर उन्हें महाराष्ट्र व गुजरात में सक्रिय एजेंटों को 75 हजार से एक लाख रुपए में बेच देते हैं. अगर कोई लड़की इस काम से इनकार करती तो उसे भूखा-प्यासा रख कमरे में बंद कर देते हैं.

आरई-2 बनाने की तैयारी, रोड निर्माण के लिए 34 करोड़ रुपये होंगे खर्च

वहीं अब एमआईजी पुलिस को आरोपी दीपक और गोवर्धन ने बताया कि उन्हें शिवनारायण गोयल नामक दलाल ने बांग्लादेश से आने वाली युवतियों के फर्जी आधार कार्ड बनाने के लिए कहा था. पुलिस दलाल की तलाश कर रही है. पता चला है कि शिवनारायण शादीशुदा है लेकिन वह देह व्यापार में भारत लाई एक युवती से प्रेम कर बैठा था और उससे शादी कर ली. बाद में गिरोह से जुड़ा और बांग्लादेशी युवतियों का आधार कार्ड बनवाने के काम में जुड़ गया.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें