सबसे स्वच्छ इंदौर में मंत्रियों और सांसद ने लगाया झाड़ू, बताया खास उद्देश्य

Smart News Team, Last updated: Mon, 28th Jun 2021, 2:48 PM IST
  • पिछले चार बार से लगातार देश के सबसे स्वच्छ एवं साफ शहर होने के गौरव को प्राप्त करने वाला इंदौर शहर फिर से पांचवी बार इसी किताब को अपने पास रखने के लिए तैयारियों में जुटा.
इंदौर को पांचवी बार स्वच्छता में सबसे अच्छा शहर का किताब दिलाने की तैयारी शुरू.

इंदौर: पिछले चार बार से लगातार देश के सबसे स्वच्छ एवं साफ शहर होने के गौरव को प्राप्त करने वाला इंदौर शहर पांचवी बार इसी किताब को अपने नाम करने की तैयारियों में जुटा हुआ है. मध्यप्रदेश के मंत्री तुलसी सिलावट और इंदौर के सांसद शंकर लालवानी ने इंदौर के स्वच्छता अभियान में हिस्सा लेते हुए खुद झाड़ू लगाकर लोगों को शहर साफ रखने का संदेश दिया और प्रोत्साहित किया. इसी के साथ ही सांसद एवं मंत्री महोदय ने जल स्रोतों के पास के क्षेत्रों की सफाई भी की.

स्वच्छ भारत अभियान पर सांसद लालवानी ने कहा, "भाजपा ने देशभर में स्वच्छता अभियान शुरू किया है. इसके तहत, जिलों के कुओं, बावड़ियों और तालाबों की सफाई की गई है. पार्टी के सभी नेताओं ने स्वच्छता अभियान में भाग लिया है. इसके बाद उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 'मन की बात' सुनी.' उन्होंने कहा, "इंदौर शायद पांचवीं बार भी सबसे स्वच्छ शहर का खिताब जीतेगा। इसके लिए सर्वेक्षण पहले ही किया जा चुका है."

इंदौर सर्राफा बाजार में 28 जून को फिर बदली सोना चांदी की कीमतें, मंडी भाव

राज्य के मंत्री तुलसी सिलावट ने कहा कि साफ-सफाई की बात करें तो इंदौर काफी सतर्क और सचेत है. यहां के लोग सफाई के प्रति बहुत ही जिम्मेदार हैं. सिलावट ने कहा, "इंदौर लगातार चार वर्षों तक सबसे स्वच्छ शहर रहा है. यह लोगों के समर्थन और जागरूकता के कारण ही सम्भव हुआ है."

इंदौर ने 7 स्मार्ट सिटीज अवार्ड्स 2020 जीता, 56 दुकान को मिला पहला स्थान

गौरतलब है कि जिस तरह इंदौर में साफ सफाई के लिए एक पूरा अलग सिस्टम बनाया गया है. इंदौरवासियों के जहन में सफाई को लेकर एक अलग ही अवधारणा बनी हुई है. लोगों के रग-रग में, उनके खून की एक एक बूंद में शहर को साफ एवं स्वच्छ रखने के लिए संकल्प शामिल है. बीते दिनों ही इंडिया स्मार्ट सिटी अवार्ड में मध्यप्रदेश के इंदौर ने दूसरा स्थान हासिल किया है. इतना ही नहीं इंदौर ने सफाई के मामले में और खान-पान स्वछ्ता और पर्यावरण के कोटि से सात अवार्ड अपनी झोली में ले लिया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें