इंदौर: अब ई वेरिफिकेशन से मिलेगा इंजीनियरिंग छात्रों को प्रवेश

Smart News Team, Last updated: Wed, 23rd Sep 2020, 10:12 AM IST
  • इंदौर. अधिकारियों के अनुसार दस्तावेज का ई वेरीफिकेशन होगा. इसलिए छात्रों को वह सभी जानकारियां देनी होगी जिससे उनका परीक्षा परिणाम ऑनलाइन सत्यापित किया जा सके. काउंसलिंग के पहले चरण में छात्र तीन अक्टूबर तक रजिस्ट्रेशन और पांच अक्टूबर तक रजिस्ट्रेशन में सुधार कर सकेंगे.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

इंदौर। तकनीकी शिक्षा संचालनालय ने मंगलवार से इंजीनियरिंग संस्थानों में प्रवेश की प्रक्रिया शुरू कर दी है. यह प्रक्रिया दो चरणों में छह नवंबर तक की जाएगी. कॉलेज लेवल काउंसलिंग के जरिए छात्र 13 नवंबर तक प्रवेश ले सकेंगे. संक्रमण को देखते हुए इस बार दस्तावेज सत्यापन सहित सभी प्रक्रियाएं ऑनलाइन होगी. जिसके लिए शहर में दो सहायता केंद्र बनाए गए हैं. हालांकि प्रवेश के लिए किसी भी छात्र को सहायता केंद्र नहीं जाना होगा. अधिकारियों के अनुसार दस्तावेज का ई वेरीफिकेशन होगा. इसलिए छात्रों को वह सभी जानकारियां देनी होगी जिससे उनका परीक्षा परिणाम ऑनलाइन सत्यापित किया जा सके. जानकारी न देने पर छात्रों को आगे की प्रक्रिया के लिए अयोग्य घोषित कर दिया जाएगा.

इस संबंध में एक नोडल अधिकारी डॉ बीएस मोरे ने जानकारी देते हुए बताया की रजिस्ट्रेशन के दौरान छात्रों को वह सभी जानकारियां देनी चाहिए जिनसे उनका दसवीं और बारहवीं का रिजल्ट ऑनलाइन जांचा जा सके. सीबीएसई के छात्रों को प्रवेश पत्र अपलोड करना होगा. उसमें मौजूद जानकारी के आधार पर ई वेरीफिकेशन आसानी से होता है.

इंदौर नगर निगम ने खरीदी 10 नई सफाई मशीनें, कचरे के साथ करेंगी दीवारों की सफाई

बताया कि काउंसलिंग के पहले चरण में छात्र तीन अक्टूबर तक रजिस्ट्रेशन और पांच अक्टूबर तक रजिस्ट्रेशन में सुधार कर सकेंगे. चॉइस फिलिंग और लॉकिंग के लिए 24 सितंबर से सात अक्टूबर रात 11:45 बजे तक का समय छात्रों के पास होगा. आठ अक्टूबर को कॉमन मेरिट लिस्ट और 12 अक्टूबर को अलॉटमेंट लिस्ट जारी कर दी जाएगी. कॉलेजों में दस्तावेजों की मूल प्रति सत्यापित करवानी होगी. इसके लिए छात्रों के पास 16 अक्टूबर शाम पांच बजे तक का समय है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें