इंदौर एक बार फिर 10 लाख से अधिक आबादी वाले सबसे साफ शहरों में शामिल

Smart News Team, Last updated: 05/12/2020 06:26 PM IST
  • इंदौर ने पिछले चार बार से लगातार सबसे स्वच्छ शहर होने का गौरव प्राप्त किया है. स्वच्छता इंदौर के लोगों के रग-रग में बसता है. रात में जब सारी दुकानें और बाजार बंद हो जाते हैं, तब लोग साफ सड़कों का स्वागत करते हुए उन पर बैठकर और लेटकर यह जताते और बताते हैं कि देखिए इंदौर की सड़कें कितनी साफ हैं.
फाइल फोटो

इंदौर. इंदौर शहर का नाम आज चाहे आप गूगल से पूछें या फिर किसी भी भारतीय से, आपको सिर्फ एक ही जवाब मिलेगा वह यह कि सबसे स्वच्छ शहर यानी इंदौर. एक समय मध्यप्रदेश की आर्थिक राजधानी के रूप में अपना मुकाम हासिल किए हुए इंदौर ने धीरे-धीरे स्वच्छता में भी अपने झंडे गाड़े. न सिर्फ सबसे साफ शहर होने के झंडे गाड़े बल्कि पिछले 4 बार से लगातार सबसे स्वच्छ शहर होने का गौरव भी प्राप्त किया. 

स्वच्छता इंदौर के शहर वासियों के रग-रग में बसता है. रात में जब सारी दुकानें और बाजार बंद हो जाते हैं, तब लोग साफ सड़कों का स्वागत करते हुए उन पर बैठकर और लेटकर यह जताते और बताते हैं कि देखिए इंदौर की सड़कें कितनी साफ हैं. इतना ही नहीं पूरे कोरोना कॉल में गीले और सूखे कचरे के अलावा जैविक या फिर कहें कि कोरोना से संबंधित कचरे, जिनमें मास्क, ग्लव्स शामिल हैं, के लिए भी इंदौर में अलग से डस्टबिन रखे गए. अपनी इन्हीं उपलब्धियों के लिए और स्वच्छता व सफाई के लिए अलग मुकाम हासिल कर पांचवी बार स्वच्छता में देशभर में प्रथम स्थान प्राप्त करने के लिए अग्रसर इंदौर स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में प्रदेश के तीन अन्य बड़े शहर जबलपुर, ग्वालियर और भोपाल के साथ प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के हाथों सम्मानित और गौरवान्वित हुआ. 

कपास के साथ लगा रखे थे गांजा के पौधे, इंदौर नारकोटिक्स विंग ने सील किया खेत

इसी के साथ इंदौर 10 लाख से अधिक आबादी वाले सबसे साफ शहरों में एक बार फिर शामिल हुआ. गौरतलब है कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 में प्रदेश के सबसे स्वच्छ निगमों, नगर निकायों एवं शहरों को सम्मानित करने एक कार्यक्रम में मौजूद थे, जहां उन्होंने इंदौर का सम्मान किया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें